Move to Jagran APP

UP News: बसपा सरकार के मंत्री और बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज, बहू ने लगाए मारपीट और धमकाने के आरोप

आगरा में बसपा सरकार में दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री रहे अजय शील गौतम उनके बेटे हर्षदीप के खिलाफ उनकी बहू ने मुकदमा दर्ज कराया है। आरोप है कि शादी के बाद से दहेज की मांग की जाने लगी और इसके लिए मारपीट और जान से मारने की धमकी दी गई। वहीं पूर्व मंत्री ने आरोपों को निराधार बताया और कहा कि यह परिवार की छवि खराब करने का प्रयास है।

By Ali Abbas Edited By: Shivam Yadav Wed, 10 Jul 2024 08:44 PM (IST)
पूर्व मंत्री और उनके बेटे पर पुत्रवधू ने दर्ज कराया मुकदमा।

जागरण संवाददाता, आगरा। बसपा सरकार में दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री रहे अजय शील गौतम उनके बेटे हर्षदीप के खिलाफ पुत्रवधू ने सदर थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। पुत्रवधू ने पति हर्ष दीप और पूर्व मंत्री के खिलाफ मारपीट, जान से मारने की धमकी, दहेज के लिए उत्पीड़न और चरित्र संबंधी गंभीर आरोप लगाए हैं। पुत्रवधू का दावा है कि इसके साक्ष्य उसके पास हैं।

यह है पूरा मामला

शाहगंज के नरीपुरा स्थित सुमन सदन की पूजा गौतम ने मुकदमा दर्ज कराया है, जिसमें ससुर अजयशील गौतम, पति हर्षदीप गौतम, सास मीरा, देवर विजय, काके उर्फ अजेंद्र और ननदाें को नामजद किया है। 

पूजा ने पुलिस को बताया कि उनकी शादी मई 2011 हर्ष दीप गौतम से हुई थी। शादी के बाद से 10 लाख रुपये की मांग को लेकर उत्पीड़न किया जा रहा था। वह परिवार को बचाने के लिए चुप रहीं। इस दौरान एक पुत्री को जन्म दिया। पुत्री होने के बाद से उनका उत्पीड़न बढ़ गया, जिससे वह घुटकर जीने को मजबूर हो गई।

अवैध धंधों में लिप्त होने का आरोप

पूजा का आरोप है कि उसके पति जो कि नर्सिंग कॉलेज से जुड़ा है, कई अवैध धंधों में लिप्त हैं। जिसके पुख्ता साक्ष्य उसके पास हैं। पति के मोबाइल की चैटिंग भी उसके पास है। 

विवेचना में यह सारे साक्ष्य पुलिस को उपलब्ध कराने देंगी। एसीपी सदर पीयूष कांत राय ने बताया कि पूजा गौतम की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस साक्ष्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई करेगी।

परिवार की प्रतिष्ठा धूमिल करने की साजिश

मामले में पूर्व मंत्री अजय शील गौतम का कहना है उनके परिवार की प्रतिष्ठा धूमिल करने के लिए यह सब किया गया है। पुत्रवधू द्वारा लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं। बेटा और बहू परिवार से अलग रहते हैं। उन्होंने बहू के खिलाफ पुलिस आयुक्त के यहां प्रार्थना पत्र दिया था। मामले को परिवार परामर्श केंद्र में भेज दिया गया था।

यह भी पढ़ें: UP News: ताजमहल को शिव मंदिर बताने वाले मुकदमे पर कोर्ट में सुनवाई, एएसआई से मांगा गया जवाब

यह भी पढ़ें: हाथरस हादसा: अखिलेश यादव ने सरकार को बताया फेल, सीएम योगी को कहा- जो कपड़े वह पहनते हैं…