आगरा, जागरण संवाददाता। रविवार को प्रातः ताज के साये में सूर्य का लालिमा बिखरने के साथ ऊं अर्हं नमः के स्वर गूजेंगे। आचार्य भगवन्त विद्यासागर महाराज के शिष्यों मुनि श्री 108 प्रणम्य सागर जी व मुनि श्री 108 चंद्र सागर जी महाराज के सानिध्य में आगरा सहित विभिन्न प्रांतों के 500 से अधिक लोग अर्हं योग व ध्यान का प्रशिक्षण देंगे। आगरा दिगम्बर जैन परिषद द्वारा ताजगंज स्थित ताजखेमा में 17 अक्टूबर को प्रातः 6-7 बजे अर्हं ए ताज कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। यह जानकारी बिहारीलाल जैन धर्मशाला गुदड़ी मंसूर खां में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान अर्हं योग प्रणेता मुनि श्री 108 प्रणम्य सागर जी महाराज ने दी।

बताया कि अर्हम ध्यान योग का शिविर है। पांच मुद्राओं पर निर्भर यर अर्हं ध्यान योग की प्रक्रिया है। इसमें योग कम ध्यान ज्यादा है। शरीर में चक्रों को सक्रिय करके रोगों को दूर व मानसिक रूप से व्यक्ति को मजबूत बनाने की प्रक्रिया है। यह सिर्फ शारीरिक क्रियाओं का योग नहीं, इस योग के जरिए हम अपनी चेतना की शक्ति को महसूस कर सकते हैं। अपनी चेतना की शक्ति से अपने मस्तिष्क को व्यवस्थित और रोगों को दूर कर सकते हैं। आज की भागदौड़ वाली व व्यस्त जीवन शैली में तनाव, अवसाद व आत्महत्या जैसे मामलों के बढ़ते ग्राफ को कम करने का इससे बेहतर तरीका कोई नहीं।

इस अवसर पर मुख्य रूप से अध्यक्ष जगदीश प्रसाद जैन, महामंत्री सुनील जैन, अर्थ मंत्री राकेश जैन (परदा), मुख्य संयोजक मनोज कुमार जैन, संगठन मंत्री गौरव जैन, राजेश जैन, अजय जैन, विक्की जैन, सुदीप जैन, वीरेन्द्र कुमार जैन, सुभाष चंद जैन, दीपक जैन, मीडिया प्रभारी शुभम जैन आदि उपस्थित थे।

Edited By: Prateek Gupta