आगरा, जेएनएन। शुक्रवार सुबह चार बजे कानपुर रेल खंड में अंबियापुर स्टेशन के पास हुए हादसे के बाद ठप पड़ा रेल यातायात 20 घंटे बाद शुरू हो सका। रात 12.30 बजे कानपुर की तरफ से पहली ट्रेन पहुंची। दिन भर रेल यातायात ठप रहने के कारण यात्री अपना आरक्षण रद करवाकर घर लौट गए थे। इसके बाद दिल्ली की तरफ से पहली ट्रेन सुबह 6.20 बजे पहुंची।

दिल्ली-हावड़ा रेलमार्ग पर स्थित कानपुर रेल खंड में अंबियापुर स्टेशन के पास मालगाड़ी शुक्रवार सुबह चार बजे पटरी से उतर गई थी। इसके चलते सौ मीटर की रेलवे लाइन टूट गई थी और यातायात पूरी तरह ठप हो गया था। शुक्रवार सुबह पौने चार बजे स्टेशन से 13238 कोटा-पटना एक्सप्रेस पौने चार बजे टूंडला स्टेशन से गुजरी। इसके बाद अप लाइन की 14065 हल्दिया-आनंद बिहार एक्सप्रेस सुबह 4.25 बजे निकली थी। इन दो ट्रेनों के बाद कोई ट्रेन नहीं आई। सैकड़ों रेल यात्री अपना आरक्षण रद करवाकर वापस लौट गए थे। दशहरे के त्यौहार के दिन लोगों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ा था।

रेलवे अधिकारी सूत्रों के मुताबिक लगभग बीस घंटे तक ट्रेनों को परिवर्तित मार्ग से गुजारा गया, जिसके चलते ट्रेनें कई घंटे देरी से चली और लोगों को बीच में ही अपनी यात्रा छोड़ना पड़ी। हादसे के बाद से लगातार रेलवे की टीमें काम करती रही और देर रात रेलवे ट्रैक पर यातायात शुरू हो सका। रात 12.40 बजे नार्थ ईस्ट एक्सप्रेस गुजरी। इसके बाद जयपुर-प्रयागराज एक्सप्रेस सुबह 6.26 बजे टूंडला स्टेशन पर पहुंची। हालांकि ट्रेन के लिए यात्री नहीं थे।

Edited By: Prateek Gupta