आगरा, जागरण संवाददाता। औषधि विभाग की टीम अवैध सर्जिकल आइटम की फैक्ट्री के संचालक का रिकार्ड खंगाल रही है। उसकी 20 साल पहले थोक दवा की दुकान थी, 15 साल से सर्जिकल आइटम का काम कर रहा था। 30 जून को औषधि विभाग की टीम ने गढ़ी भदौरिया स्थित राजेंद्र कुमार अग्रवाल की मेडिकेयर हेल्थकेयर डिवाइसेस के नाम से संचालित अवैध फैक्ट्री पर छापा मारा था। यहां बड़ी मात्रा में ग्लव्स, मास्क, सिरिंज सहित अन्य सर्जिकल आइटम मिले थे। सरगना राजेंद्र कुमार अग्रवाल कार्रवाई के दौरान भाग गया था, 14 दिन बाद भी पुलिस उसे गिरफ्तार नहीं कर सकी है। उधर, औषधि विभाग की टीम राजेंद्र कुमार अग्रवाल का रिकार्ड खंगाल रही है।

औषधि निरीक्षक राजकुमार शर्मा ने बताया कि दवा कारोबारियों से पता चला है कि 20 साल पहले फव्वारा दवा बाजार में राजेंद्र कुमार अग्रवाल की थोक दवा की दुकान थी। 1996 से सर्जिकल आइटम का काम करना शुरू किया, हास्पिटल और नर्सिंग होम में मांग बढ़ने पर अवैध फैक्ट्री शुरू कर दी। इसके बाद आनलाइन ट्रेडिंग भी शुरू कर दी। पिछले पांच साल में जिन फर्मों से सर्जिकल आइटम खरीदे गए और जिन फर्मों को सर्जिकल आइटम की बिक्री की गई, उन्हें भी नोटिस दिया जा रहा है।

 

Edited By: Prateek Gupta