जागरण टीम, आगरा। पानी के विवाद में बेरी चाहर गांव में गोली मारकर हुई ग्रामीण की हत्या के मामले में शनिवार को मृतक पप्पू के घर में कोहराम मचा रहा। दूरदराज के गांवों से आए लोग स्वजन को सांत्वना देते रहे। घर की महिलाएं आरोपितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर रही हैं। इस मामले में पुलिस दो आरोपितों को पुलिस पूर्व में ही गिरफ्तार कर चुकी है। हालांकि चोट लगने के कारण फिलहाल उनका उपचार चल रहा है। वहीं अन्य तीन की तलाश में दबिश दी जा रही हैं। वहीं गांव में व्याप्त तनाव को देखते हुए तीसरे दिन शनिवार को भी दिन भर पुलिस व पीएसी बल तैनात रहा।

कागारौल के बेरी चाहर निवासी पूर्व फौजी राजेश, आइटीबीपी के जवान उमेश कुमार, राजीव, दीपक और गीताराम ने बीते गुरुवार की रात पड़ोस में रहने वाले पप्पू और हरदम को गोल मार दी थी। इसमें पप्पू की मौके पर ही मौत हो गई थी। मृतक के भाई हरिओम ने आरोपितों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस का कहना है कि आरोपित राजीव, दीपक और गीताराम की तलाश में दबिश दी जा रही हैं। तहसीलदार खेरागढ़ सर्वेश कुमार ने बताया कि मृतक के स्वजन को शासन की तरफ से मदद दिलाने की हरसंभव कोशिश की जा रही है। अपराधियों का तैयार हो रहा डोजियर

जागरण टीम, आगरा। एसपी पूर्वी अशोक वेंकट के. का कहना है कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मद्देनजर व्यापक स्तर पर तैयारियां चल रही हैं। बूथ स्तर के अपराधियों का डोजियर तैयार किया जा रहा है। उनकी हर हरकत पर पुलिस की निगाह रहेगी। वोटिंग से एक माह बाद तक गांवों में राजनीतिक विवाद पर पुलिस का फोकस रहेगा। उन्होंने कहा कि चुनाव सेल गठित कर दी है। विवादित लोगों पर पाबंदी की कार्रवाई की जा रही है। वर्ष 2015 के पंचायत चुनाव के दौरान शांति व्यवस्था भंग करने वालों की सूची बना ली गई है। इसके अलावा 2017 के विधानसभा और 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान ला एंड आर्डर बिगाड़ने वालों की सूची बनाई जा रही है। जेल से रिहा हुए लोगों का सत्यापन कराया जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप