आगरा, जागरण संवाददाता। पुराने बाजारों में टप्पेबाजों का गैंग सक्रिय है।यह गैंग अलग-अलग बहाने बनाकर लोगों को जाल में फंसाता है। इसके बाद गहने और नकदी लेकर फरार हो जाता है।इस गैंग पर शिकंजा कसने में पुलिस भी नाकाम साबित हो रही है। कोतवाली क्षेत्र के कश्मीरी बाजार में शनिवार को चांदी कारीगर को टप्पेबाज गैंग ने जाल में फंसाया। हथेली में अजमेर शरीफ का झंडा दिखाने का झांसा देकर आंखें बंद कराईं। इसके बाद शातिर डेढ़ किलोग्राम चांदी लेकर फरार हो गए। सीसीटीवी फुटेज में शातिरों का सुराग नहीं मिला। हाथरस के एक व्यापारी को दो माह पहले टप्पेबाजों ने निशाना बनाया। भविष्य में कष्ट बताकर उसे जाल में फंसाया। इसके बाद कष्ट दूर करने का बहाना बनाकर आंखें बंद करा दी। टप्पेबाज गैंग लगातार इस तरह की घटनाएं कर रहा है। मगर, इस गैंग पर अभी तक पुलिस शिकंजा नहीं कस पा रही है। एसपी सिटी विकास कुमार का कहना है कि टप्पेबाज गैंग के सदस्यों के बारे में सीसीटीवी फुटेज से सुराग मिले हैं।ठगों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

यहां सक्रिय है गैंग

कोतवाली, फव्वारा, किनारी बाजार, कश्मीरी बाजार, सिंधी बाजार, सराफा बाजार

बरतें सावधानी

- टप्पेबाज गैंग बातों के जाल में फंसाकर लोगों को शिकार बनाता है। उनके झांसे में न आएं। अपना कीमती सामान किसी के हाथ में नहीं दें। सावधानी बरत कर इस गैंग से बचा जा सकता है।

- गैंग में तीन से चार लोग शामिल रहते हैं। एक व्यक्ति बात करता है। अन्य भरोसा जताने के लिए अंजान बनकर रहते हैं। इससे लोगों को ठगों की बातों पर भरोसा हो जाता है। 

Edited By: Tanu Gupta