आगरा(जागरण संवाददाता): हमारी मेहनत का ही नतीजा था कि तीन बार नेताजी और फिर अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बने। लेकिन सत्ता मिलने के बाद हमें जो मिलना चाहिए था वो हासिल नहीं हुआ। सम्मान के बदले सिर्फ अपमान मिला और अपमान का परिणाम है कि हम आज इस स्थिति में है। समाजवादी पार्टी की रार का दर्द झलक ही उठा शिवपाल यादव के संबोधन में। शुक्रवार को फीरोजाबाद जिले के रामलीला मैदान, शिकोहाबाद में सपा के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव का 72 वां जन्मदिन समारोह मनाया जा रहा है। समारोह में पूर्व मंत्री शिवपाल यादव बधाई देने पहुंचे। हालांकि आयोजन स्थल पर पूर्व मंत्री महज पांच मिनट ही रुके। इस दौरान पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने सपा मुखिया को चापलूसों से दूर रहने की सलाह भी दे डाली। पूर्व मंत्री ने कहा कि चापलूसों के कारण सपा आज अपना आधार खोती जा रही है।

पूर्व मंत्री का सपा के राष्ट्रीय महासचिव के जन्मदिन समारोह में शिरकत करना कई तरह के कयास उत्पन्न कर रहा था। शिवपाल यादव का रुख रार को खत्म कर सुलह करने का लग रहा था। गौरतलब है कि सपा परिवार में लंबे समय से विवाद चल रहा था। जिसके बाद शिवपाल यादव हाशिए पर चले गए थे। अब रामगोपाल यादव और शिवपाल यादव को एक मंच पर देखकर राजनीतिक हलकों में चर्चाएं चल रही हैं। राष्ट्रीय महासचिव के जन्मदिन समारोह को सपा के शक्ति प्रदर्शन के रूप में भी देखा रहा है। राजनीतिक पंडित लोकसभा चुनाव 2019 में आयोजन को बड़ा प्रयास बता रहे हैं।

प्रोफेसर साहब बड़े भाई

पूर्व मंत्री ने रामगोपाल यादव को बड़ा भाई कहते हुए जन्मदिन की शुभकामना का बुके दिया। इस मौके पर रामगोपाल यादव को अपने बड़े भाई तौर पर संबोधित करना, लोगों को सोच में डाल गया।

सैफई परिवार का इंतजार

सपा के राष्ट्रीय महासचिव का 72 वां जन्मदिन सपा के शक्ति प्रदर्शन के तौर पर मनाया जा रहा है। आयोजन को लेकर कई दिनों से तैयारियां चल रही थीं। कई लाख लोग कार्यक्रम में शिरकत कर रहे हैं। सुबह जब शिवपाल यादव आयोजन स्थल पर पहुंचे तो लोग मुलायम सिंह यादव सहित सैफई परिवार के अन्य सदस्यों के आने की उम्मीद भी लगाने लगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप