आगरा, जागरण संवाददाता। डोर टू डोार कूड़ा कलेक्शन करने के नाम पर करोड़ों का घोटाला की आरोपित चारों फर्म की जांच पुलिस ने शुरू कर दी है। वह फर्मों के घोटाले की जांच के साथ ही उसके सत्यापन के लिए झांसी और ग्वालियर भी जाएगी। इससे कि यह देखा जा सके कि इन फर्म के कार्यालय दिए गए पते पर हैं कि नहीं। यह कार्यालय किस स्थिति में है। इसके साथ ही पुलिस फर्मो द्वारा दिए गए शपथ पत्रों और उनमें दिए गए तथ्यों के फर्जी होने की भी जांच कर रही है।

पिछले साल सितंबर में नगर निगम की बैठक के दौरान पार्षदों ने घर-घर जाकर कूड़ा उठाने वाली चारों फर्म द्वारा मई और जून 2019 में प्रस्तुत किए गए आंकड़ों पर सवाल उठाया था। वास्तविक स्थिति की जांच कराने की मांग की थी।इसके बाद नगर निगम ने तीन सदस्यीय कमेटी बनाकर चारों फर्म द्वारा किए गए कार्य की। इसमें घोटाला घोटाले के साक्ष्य मिलने पर फर्मों को लोगों से वसूली धनराशि नगर निगम के कोष में जमा कराने काे सात दिन का नोटिस दिया गया। रकम जमा नहीं कराने पर नगर निगम के पर्यावरण अभियंता राजीव कुमार राठी ने हरीपर्वत थाने मे घर-घर जाकर कूड़ा उठाने वाली चार फर्मों के खिलाफ धोखाधड़ी और गबन का मुकदमा दर्ज कराया है।

आरोपित तीन फर्म झांसी की और एक ग्वालियर की है। चारों फर्म द्वारा अपने कार्यालयों का पता दिया गया है।पुलिस उनके कार्यालय का भी वहां जाकर सत्यापन करेगी। यह पता लगाएगी कि स्मार्ट सिटी योजना के तहत घरो से कूड़ा एकत्रित करने के लिए करोड़ों का ठेका लेने वाली इन फर्म की वास्तविक स्थिति क्या है। सीओ हरीपर्वत सौरभ दीक्षित ने बताया फर्मों की जांच के लिए पुलिस को झांसी और ग्वालियर भी भेजा जाएगा।

भौतिक सत्यापन में खुली कंपनियों के कूड़ा कलेक्शन की पोल

घर-घर जाकर कूड़ा उठाने वाली कंपनियों के घोटाले की पोल नगर निगम द्वारा कराए गए भौतिक सत्यापन में खुली।

-फर्म ओम मोटर्स पर हरीपर्वत जोन में डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का काम था। फर्म ने मई 2019 में 103560 हाउस होल्ड का देयक प्रस्तुत किया।टीम ने मौके पर जांच की तो मात्र 8.5 फीसद कार्य का सत्यापन ही पाया गया।फर्म ने सिर्फ 8803 घरों से कूडा उठाया था।इसी तरह जून में 103560 घरों से कूड़ा उठाने का देयक प्रस्तुत किया।भाैतिक सत्यापन में 7.59 फीसद ही कार्य होना पाया गया।फर्म ने सिर्फ 7891 घरों से ही कूड़ा उठाया था।

-मैसर्स सोसायटी फार एजुकेशन एंड वेलफेयर फार ऑल के पास लोहामंडी जोन के शाहगंज क्षेत्र का डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का काम था।फर्म ने मई 2019 में 45751 का देयक नगर निगम को प्रस्तुत किया।मगर,सत्यापन करने पर सिर्फ 11.6 फीसद कार्य ही पाया गया।फर्म ने सिर्फ 5539 घरों से ही कूड़ा कलेक्शन किया था।इसी तरह जून 2019 में 58513 घरो से कूड़ा कलेक्शन का देयक प्रस्तुत किया।भौतिक सत्यापन किया गया तो 0.67 फीसद कार्य करने की पुष्टि हुई।फर्म ने सिर्फ 521 घरों से ही कूड़ा उठाया था।

-मैसर्स अरवा एसोसिएट पर ताजगंज जोन में डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का काम था।फर्म ने मई 2019 में 52939 घरों से कूड़ा कलेक्शन दिखाया।सत्यापन करने पर मात्र 20.46 फीसद अर्थात 10831 घरों से ही कूडा उठाना पाया गया।इसी तरह से जून 2019 में 66549 घरों से कूड़ा उठाना दिखाना गया।मौक पर सत्यापन किया गया तो 7.40 फीसद घरों अर्थात 5184 से ही कूड़ा उठाना पाया गया

-मैसर्स एस.आर.एम.टी वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड को ताजगंज जोन में कूड़ा कलेक्शन काम दिया गया था।फर्म द्वारा मई और जून 2019 में हाउस होल्ड की सूची नगर निगम को नहीं दी गयी।इसके चलते नगर निगम ने फर्म द्वारा प्रस्तुत बिलों को शून्य मानते हुए उसके द्वारा यूजर चार्ज की कटौती की मई से सितंबर तक की किस्तें वसूलने का नोटिस दिया।

आरोपित फर्म और उनके कार्यालय का पता, घोटाले की राशि

-मैसर्स एस.आर.एम.टी वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड ईएच-21 दीनदयाल नगर ग्वालियर (60,60000) साठ लाख, साठ हजार रुपये

-ओम मोटर्स 591 खाती बाबा झांसी (1,20,68,751) एक करोड़,बीस लाख, अड़सठ हजार, सात सौ इक्यावन रुपये

-मैसर्स अरवा एसोसिएट बंगलो नंबर 55 कैंट सदर बाजार झांसी (57,99,707)सत्तावन लाख, निन्यानवे हजार, सात सौ सात रुपये

-मैसर्स सोसायटी फार एजुकेशन एंड वेलफेयर फार ऑल, प्रेमगंज सीपरी बाजार झांसी(43,57,790) तैंतालीस लाख,सत्तावन हजार सात सौ नब्बे रुपये

-मैसर्स एस.आर.एम.टी वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड ईएच-21 दीनदयाल नगर ग्वालियर (60,60000) साठ लाख, साठ हजार रुपये 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस