आगरा, जागरण संवाददाता। जमीन से आकाश तक अभेद्य सुरक्षा। बिना इजाजत परिंदा भी पर न मार सके जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का काफिला एयरपोर्ट से ताजमहल को गुजरे। कुछ ऐसे ही प्रयासों में जुटा है पुलिस प्रशासन। लेकिन, फ्लीट के रूट में पड़ने वाले आरओबी (रेलवे ओवर ब्रिज) की कमजोरी छिपाने के भी भरपूर जतन किए जा रहे हैं। ट्रंप करीब नौ टन वजनी बुलेट प्रूफ कार से इसी पुल से गुजरेंगे।

डोनाल्ड टंप का 24 फरवरी को खेरिया एयरपोर्ट से ताजमहल जाने का कार्यक्रम प्रस्तावित है। रूट पर युद्धस्तर पर तैयारियां चल रही हैं। अतिक्रमण हटाने के साथ ही एकरूपता भी बनाई जा रही है। एयरपोर्ट से ईदगाह चौराहे के बीच में रेलवे का ओवर ब्रिज है। इसका रखरखाव रेलवे के साथ-साथ लोक निर्माण विभाग भी करता है। रेलवे की इंजीनियरिंग शाखा पुल के बीच के स्ट्रक्चर (रेलवे लाइन के ऊपर गर्डर प्लेट) का रखरखाव देखती है जबकि पीडब्ल्यूडी पुल की सड़क और दोनों ओर के ढलान के साथ-साथ रेलिंग की मरम्मत करती है।

वर्तमान में पुल पर कई स्थानों पर दरारें आ गई हैं। पीडब्ल्यूडी ने पुल और उसके आसपास चेतावनी बोर्ड भी लगा रखे थे। जिन पर लिखा था कि ‘रेलवे का ओवर ब्रिज कमजोर है, इस पर भारी वाहनों का प्रवेश वर्जित है’ । बावजूद इसके धड़ल्ले से इस पर भारी वाहन गुजरते रहे। अब अमेरिकी राष्ट्रपति का काफिला भी इसी पुल से गुजरेगा। उनकी गाड़ी का वजन नौ टन है। जो रोड ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के नोटिफिकेशन के मुताबिक हल्के वाहन के तय मानक साढ़े सात टन से अधिक है। ट्रंप की फ्लीट में और भी दर्जनों वाहन होंगे।

पीडब्ल्यूडी ने सोमवार को इस पुल पर कमजोर स्थानों को ढकने का काम कराया। सीमेंट से चमकती सरिया दब दीं, फुटपाथ की दरारें भी भर दीं। सड़क की दरारों में गिट्टी भरकर पहले ही डामरीकरण कर दिया गया है। मगर, यहां फिर से दरारें साफ नजर आने लगी हैं। चेतावनी बोर्ड भी रातोंरात गायब हो गए, लेकिन ईदगाह चौराहे पर लगा चेतावनी बोर्ड अभी भी पुल के कमजोर होने की चुगली कर रहा है।

फैक्‍ट

1955 में बना था रेलवे ओवर ब्रिज नंबर 1343 ईदगाह चौराहा-खेरिया एयरपोर्ट के बीच है पुल। 2019 में रेलवे के चीफ ब्रिज इंजीनियर ने गर्डर बदलने और विशेष पेंट कराने के दिए थे निर्देश।

क्‍या कहते हैं अधिकारी

छह महीने पहले भारी वाहनों पर रोक की रिपोर्ट थी, दोबारा से पीडब्ल्यूडी के इंजीनियरों से जांच कराई है। हल्के वाहनों के गुजरने के लिए पुल पूरी तरह से उपयुक्त है। सिर्फ भारी वाहनों का आवागमन वर्जित है।

प्रभु एन सिंह, जिलाधिकारी

पुल को सुदृढ़ करने के लिए गर्डर बदलने समेत अन्य कार्य होने हैं। इसका प्रस्ताव मुख्यालय भेजा गया है। यह प्रक्रिया रखरखाव तकनीक का हिस्सा है।

एसके श्रीवास्तव, पीआरओ, उम रेलवे, आगरा मंडल

आरओबी से हल्के वाहन आसानी से गुजर सकते हैं। भारी वाहनों पर रोक है।

योगेश पंवार, अधीक्षण अभियंता पीडब्ल्यूडी

 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस