आगरा, जागरण संवाददाता। रालोद के पंचायतीराज प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष नानक चंद शर्मा ने कहा ग्राम प्रधान एवं पंचायतों के पास नाम मात्र के अधिकार हैं। संविधान में दिए गए अधिकारी पंचायतों को हस्तांतरित नहीं किए गए हैं। पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह ने पूरा जीवन किसानों, ग्रामीणों के उत्थान में लगा दिया। संगठन उनके पदचिन्हों पर चलते हुए बेहतर कार्य करने वाली महिला प्रधानों को सम्मानित करेगा।

शुक्रवार को आए प्रदेशाध्यक्ष शर्मा ने आहार रेस्टोरेंट में मीडिया को बताया कि संगठन को प्रधानों के चयन की जिम्मेदारी सौंप दी गई है। हर जिले में नाम चयनित कर सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सूबे में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। महिलाएं, बेटियां असुरक्षित हैं और व्यापारी परेशान हैं। व्यापार पूरी तरह से ठप हो गया है। किसानों को मुआवजा हाथ नहीं आ रहा है। ऋण मोचन के नाम पर छलावा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के कार्यो से प्रेरणा लेनी चाहिए। चौधरी साहब ने जैसा भविष्य का भारत देखा था, उसी तर्ज पर काम किया जाना जरूरी है। इस मौकेपर प्रदेश प्रवक्ता कप्तान सिंह चाहर ने कहा कि हर वर्ग में महिलाओं का सम्मान होना चाहिए। इसी प्रेरणा से पार्टी ने महिला प्रधानों का अभिनंदन करने का फैसला लिया है। इस दौरान जिलाध्यक्ष मालती चौधरी, चौधरी रामवीर सिंह, नरेंद्र बघेल, रूप सिंह फौजदार, रवि चौधरी, रिपुदमन सिंह, दुर्गेश बघेल आदि मौजूद थे।

चार को सौंपा दायित्व

प्रदेशाध्यक्ष नानक चंद शर्मा ने संगठन विस्तार करते हुए चार लोगों को दायित्व सौंपे हैं। उन्होंने डॉ. एसएस यादव को प्रदेश उपाध्यक्ष और सुधीर कुलश्रेष्ठ को महासचिव बनाया है। वहीं उदय सिंह राणा को मंडलाध्यक्ष और उदय सिंह सिकरवार को जिलाध्यक्ष का दायित्व सौंपा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस