आगरा, जागरण संवाददाता। 15 साल पुराने वाहन अब सड़क पर नजर नहीं आएंगे। परिवहन विभाग ने पचास हजार वाहन स्वामियों को नोटिस जारी किया है। तीन हजार ने एनओसी ले ली और 1850 के रजिस्ट्रेशन निरस्त कर दिए गए हैैं। 45 हजार से ज्यादा वाहन स्वामी न तो रजिस्ट्रेशन निरस्त कराने पहुंचे और न ही एनओसी लेने। ढाई माह पहले जारी नोटिस में छह माह का समय दिया गया है। शेष साढ़े तीन माह बाद इन वाहनों के रजिस्ट्रेशन निरस्त करने की कार्रवाई होगी।

आगरा के टीटीजेड में होने के कारण यहां 15 साल पुराने वाहनों के संचालन पर पूर्ण प्रतिबंध के आदेश हैं। इन वाहनों की हालत भी ऐसी है जो कि सबसे ज्यादा प्रदूषण फैला रहे हैं। परिवहन विभाग ने इन वाहनों पंजीकरण निरस्त करने का निर्णय लिया। विभाग ने जारी किए नोटिस में कहा कि यदि उनके वाहन की कंडीशन बेहतर है तो वह अपने वाहन की एनओसी लेकर किसी अन्य जनपद में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। नोटिस जारी होने के बाद तीन हजार वाहन स्वामी आरटीओ कार्यालय से एनओजी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) ले चुके हैं। विभाग ने 1850 वाहनों का पंजीयन भी निरस्त किया है।

एआरटीओ (प्रशासन) अनिल कुमार सिंह ने बताया कि संशोधित मोटर वाहन अधिनियम-2019 में स्पष्ट है कि 15 साल की उम्र पूरी करने वाले वाहनों को सड़क पर न चलने दिया जाए। इसी के तहत नोटिस जारी किए गए हैं। अभी 45 हजार के करीब ऐसे वाहन स्वामी है जिन्होंने न तो अपने वाहन का पंजीकरण निरस्त कराया है और न ही एनओसी ली है। उन्होंने बताया कि जिन वाहन स्वामियों को लगता है कि उनके वाहन की कंडीशन ठीक है वह एनओसी लेकर दूसरे स्थान पर अपने वाहन का पंजीकरण करा सकते हैं। जारी किए गए नोटिस में वाहन स्वामियों को छह माह का समय दिया गया था। इस समय को पूरा होने के बाद उनके रजिस्ट्रेशन निरस्त कर दिए जाएंगे। इसके बाद भी यदि वाहन सड़क पर संचालित मिला तो उसे सीज कर कबाड़ी के पास कटने के लिए भेज दिया जाएगा।  

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस