आगरा, जागरण संवाददाता। लॉकडाउन से मंहगा हुए सब्जियों के राजा आलू के दाम अनलॉक तक घटने का नाम नहीं ले रहे हैं। नवरात्र पर फलों का बाजार तैयार है, तो आलू की खपत 20 फीसद तक बढ़ जाती है। स्थानीय भंडारित आलू ही बाजार में आ रहा है। थोक में तो दाम 24 रुपये प्रतिकिलोग्राम हैं, लेकिन फुटकर बाजार में 50 से 55 रुपये प्रति किलोग्राम तक ठेल वाले वसूल रहे हैं।

जुलाई में बाजार में आने वाली हसन की फसल इस बार कर्नाटक में मौसम की मार के कारण दूसरी मंडियों तक नहीं पहुंच सकी। बाजार में प्रतिस्पर्धा नहीं होने के कारण आलू का भाव चढ़ा आठ रुपये से चढ़ कर 16 रुपये तक पहुंच गया। इसके बाद अगस्त में आने वाली हिमाचल की फसल भी बहुत कम स्थानीय मंडी में आई, जिससे आलू के दाम 20 रुपये को पार कर गए। इस समय आलू के भाव सिकंदरा फल एवं सब्जी मंडी में 24 से 26 रुपये प्रति किलोग्राम हैं। नवरात्र में फलहार में आलू का भी आहार होने के कारण इसकी खपत बढ़ेगी, जिससे दामों में अंतर आने की आशंका बनी हुई है। वहीं फुटकर बाजार में बढ़ा मुनाफा कमाया जा रहा है। ठेल वालों ने आलू के दाम 45 से 50 रुपये प्रति किलोग्राम तक कर दिए हैं। कमला नगर, सिविल लाइन, दयालबाग, लॉयर्स कॉलोनी में आलू 55 रुपये प्रति किलोग्राम तक बिक रहा है।

सेब की भरपूर है आवक

सिकंदरा फल एवं सब्जी मंडी में इस समय कश्मीर का सेब आ रहा है। इससे पहले हिमाचल के सेब की आवक हो रही थी, लेकिन एक सप्ताह से हिमाचल का सेब आना लगभग बंद हो गया है। थोक विक्रेता गजेंद्र सिसौदिया ने बताया कि 20 से 22 ट्रक सेब रोज आवक हो रही है। नवरात्र में चार से छह ट्रक की आवक और बढ़ जाएगी। थोक विक्रेता राकेश ने बताया कि केला, मौसमी, अनार की आवक पर्याप्त हो रही है। अनार के 10 से 15 ट्रक रोज आते हैं। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस