आगरा, जागरण संवाददाता। निजी कंपनियों ने डीजल, पेट्रोल के दाम बढ़ा दिए हैं। इसका प्रकाशन भी उन्होंने अपने डिस्प्ले बोर्ड पर कर रखा है, लेकिन बढ़े हुए दामों का बोझा आम आदमी को झेलना पड़ रहा है। हाईवे के नजदीक स्थित पंप पर सर्वाधिक लोड़िंग वाहन डीजल भरवाते हैं, जबकि पेट्रोल भरवाने वालों की भी कमी नहीं है। बिना रेट डिस्प्ले देखे पहुंचने वाले ग्राहक बाद में नाराजगी भी जताते हैं।

एस्सार के पेट्रोल पंप पिछले दिनों ड्राई हो गए थे, लेकिन अब आपूर्ति आ गई है। कंपनी ने अपने अनुसार मूल्य वृद्धि कर दी है। कच्चे तेलों के दामों में इजाफा, आपूर्ति प्रभावित, कंपनियों द्वारा भुगतान प्रक्रिया में बदलाव को इसका कारण बताया जा रहा है। इससे पेट्रोल, डीजल की किल्लत तो समाप्त हो रही है, लेकिन बढ़े हुए दामों पर हर ग्राहक खरीदने काे तैयार नहीं है।

ऐसे में वे दूसरे पंपों पर पहुंच रहे हैं, जिससे कतारें लग जाती हैं। कालिंदी बिहार स्थित एस्सार पंप पर पेट्रोल 101.61 रुपये उपलब्ध कराया जा रहा है। वहीं रिलायंस पेट्रोल पंप भी बढ़े हुए दामों पर आपूर्ति करा रहा है। कुबेरपुर पर स्थित रिलायंस पंप पर पेट्रोल 103.23 रुपये और डीजल 94.30 रुपये हैं।

पंप मैनेजर बीएस त्यागी ने बताया कि कंपनी द्वारा जो रेट निर्धारित किए गए हैं, उसी से उपलब्धता कराई जा रही है। वहीं आइओसी, एचपी और बीपीसी के पंप पर पेट्रोल 96.35 रुपये और डीजल 89.52 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है।

ट्रक चालक किसी भी पंप पर रोक कर डीजल लेते हैं। ऐसे में निजी कंपनियों के पंप पर रेट अधिक होने से नुकसान हो रहा है। कारोबार पहले से ही मंदा है।

दीपक शर्मा, ट्रांसपोर्टर

पेट्रोल, डीजल के दाम तो अलग से निर्धारित नहीं होने चाहिए। इसमें समानता होनी चाहिए। सरकार को इस दिशा में कदम उठाना चाहिए। आम आदमी को बड़ा नुकसान है।

याेगेश, ग्राहक 

Edited By: Prateek Gupta