आगरा, जागरण संवाददाता। बारिश की बूंदों को सहेजने के लिए तालाबों के संरक्षण का कार्य शुरू कर दिया गया है। जिले के 15 ब्लाकों में चिह्नित किए गए 1380 तालाबों में से 448 तालाबों के संरक्षण का कार्य चल रहा है। मनरेगा के तहत इनकी खोदाई का कार्य चल रहा है। जिससे कि इन तालाबों में अधिक से अधिक पानी को सहेजा जा सके। मुख्य विकास अधिकारी ए. मनिकंडन ने मानसून से पहले सभी तालाबों को संरक्षित करने का दावा किया है। अधिकांश तालाबों की कार्य योजना बनकर तैयार हो गई है। इससे मनरेगा मजदूरों को भी अधिक से अधिक काम मिल रहा है। कोशिश की जा रही है कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में कम से कम दो तालाब पूर्ण रूप से विकसित किए जाएं।

ये भी होगा

कोशिश की जा रही है कि तालाबों को संरक्षित करने के बाद इनके किनारे पौधे रोपे जाएं। जिससे कि तालाबों के आसपास हरियाली विकसित हो सके।इसके बाद यहां रात में रोशनी के लिए स्ट्रीट लाइटें और बैठने के लिए बेंच लगाई जाएंगी। ताकि ग्रामीणों को समय गुजारने के लिए एक बेहतर स्थल उपलब्ध हो सके।

हमारी कोशिश है कि मानसून से पहले सभी लक्ष्य के अनुरूप सभी तालाबों का संरक्षण कार्य पूरा हो जाए। भविष्य में इनके आसपास पौधरोपण किया जाएगा। इन्हें एक बेहतर स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा।

ए. मनिकंडन, सीडीओ

Edited By: Prateek Gupta