आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा के हरीपर्वत थाने के एक अपार्टमेंट में बुजुर्ग व्यापारी की हत्या और लूटपाट में शामिल एक आरोपित विजय को गिरफ्तार करने में पुलिस अभी नाकाम है। पुलिस हत्याकांड में शामिल लुटेरी दुल्हन और उसके बाकी साथियों को सलाखों के पीछे भेज चुकी है। वांछित की तलाश में पुलिस ने कई जगह दबिश दीं, लेकिन वह हाथ नहीं आया। विजय फीरोजाबाद के थाना एका इलाके का रहने वाला है।

ये था मामला

हरीपर्वत के फ्रीगंज के तिरंगा अपार्टमेंट में 12 अप्रैल की रात को आढ़़त का व्यापार करने वाले किशन गोपाल अग्रवाल 67 वर्ष की हत्या कर दी गई थी। बिना नंबर की कार से आई महिला और उसके तीन साथी फ्लैट में रखी तिजोरी से नकदी-जेवरात लूटकर ले गए थे। शनिवार केा हत्याकांड का पुलिस ने पर्दाफाश करते हुए आरोपित महिला नीलम यादव निवासी थाना एका, फीरोजाबाद और यज्ञपाल सिंह निवासी एटा को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया। हत्याकांड के पीछे लुटेरी दुल्हन का निकला था। व्यापारी को शातिरों ने नीलम से शादी कराने का लालच देकर अपने जाल में फांसा था।

कातिल दुल्हन नीलम के मोबाइल में मिले थे अहम सुराग

पुलिस को लुटेरी कातिल दुल्हन नीलम के मोबाइल में हत्याकांड के अहम साक्ष्य मिले थे। अपनी केस डायरी में पुलिस इन साक्ष्यों को शामिल करेगी। मोबाइल को पुलिस ने फोरेंसिक विशेषज्ञों के पास भेजा गया। इन वीडियो की सीडी बनाई जा सके। इसे वह केस डायरी में शामिल करेगी। जिससे कि अदालत में आरोपितों के खिलाफ ठोस साक्ष्य प्रस्तुत करके उन्हें सख्त से सख्त सजा दिलाई जा सके।

 

Edited By: Prateek Gupta