आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना के केस लगातार कम हो रहे हैं। मगर, मौत कम नहीं हो रही हैं। अब कोरोना संदिग्ध 100 लोगों की जांच में दो की रिपोर्ट पाजिटिव आ रही है। रविवार को कोरोना के 111 नए केस आए हैं। वहीं, तीन मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई।

पिछले सात दिन से कोरोना के केस लगातार कम हो रहे हैं। 111 नए केस सामने आने से संक्रमितों की संख्या 24854 पहुंच गई है। वहीं, तीन मरीजों की मौत हो गई। अभी तक 319 मरीजों की मौत हो चुकी है। कोरोना के सक्रिय केस 1682 हैं। 221 मरीज हुए ठीक कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। जबकि नए केस कम हो रहे हैं। 221 मरीज ठीक होने पर डिस्चार्ज कर दिए गए। अभी तक 22853 मरीज ठीक हो चुके हैं। 15 फीसद से घटकर दो फीसद पहुंचा सैंपल पाजिटिविटी रेट अप्रैल में सैंपल पाजिटिविटी रेट 15 फीसद तक पहुंच गया था। 100 सैंपल की जांच करने पर 15 में कोरोना की पुष्टि हो रही थी। मगर, अब केस कम होने के साथ ही पाजिटिविटी रेट भी कम हुआ है। अब सैंपल पाजिटिविटी रेट दो फीसद से कम है। रविवार को कोरोना की जांच के लिए 6128 सैंपल लिए गए। कोरोना संक्रमण से 27वीं शिक्षिका की मौत

आगरा, जागरण संवाददाता। बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों पर कोरोना कहर बनकर टूटा है। जिले में अब तक 27 शिक्षकों की मौत हो चुकी है। रविवार को खेरागढ़ ब्लाक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय खानपुर की सहायक अध्यापक राधारानी का कोरोना संक्रमण के चलते निधन हो गया।

स्वजन ने बताया कि शिक्षिका राधारानी की ड्यूटी पंचायत चुनाव में लगी थी। ड्यूटी से लौटने के बाद उन्हें बुखार और जुकाम की शिकायत हुई। कुछ दिन दवा लेने के बाद तबीयत ज्यादा खराब होने पर उन्होंने चिकित्सक को दिखाया, तो वह कोरोना संक्रमित पायी गईं। स्वजन ने उन्हें प्रतापपुरा स्थित डा. एससी अग्रवाल के हास्पिटल में भर्ती करा दिया। पिछले कई दिनों से इलाज चल रहा था, रविवार को उनकी सांसें थम गई।

अंतर जनपदीय स्थानांतरण पर आयी थीं आगरा

शिक्षिका राधारानी पहले बदायूं जिले में तैनात थीं। पिछले दिनों हुए अंतर जनपदीय स्थानांतरण में उन्हें अपना जिला मिल गया था, जिसके बाद वह बेहद खुश थीं। लेकिन वहां से आने के बाद उनकी चुनाव ड्यूटी लग गई और वह संक्रमित हो गई। उनके इलाज के लिए स्वजन के सामने पैसों की भी दिक्कत थी, क्योंकि स्थानांतरण प्रक्रिया के बाद अब तक उनका मासिक वेतन जारी नहीं हुआ था, जिस कारण इलाज में आर्थिक दिक्कतें भीआयीं।

वेतन हो जारी, मिले सस्ता इलाज

प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलामंत्री बृजेश दीक्षित ने वेतन न मिलने से आर्थिक अभाव में जी रहे शिक्षकों की स्थिति पर रोष जताया है। उनका कहना है कि वेतन भुगतान न करने वाले दोषी कर्मचारियों व अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए और संक्रमित शिक्षकों व कर्मचारियों को एसएन मेडिकल कालेज में सस्ता व अच्छा इलाज उपलब्ध कराया जाए, ताकि उनकी जान बचाई जा सके।