आगरा, जागरण टीम। मुडि़या पूर्णिमा मेला में यातायात व्यवस्था को सामान्य बनाए रखने के लिए बदलाव करने की कोशिश अंत में सफल होती नजर नहीं आई। अंत में पुराने ही यातायात व्यवस्था को लागू कर दिया गया। अब मथुरा-गोवर्धन मार्ग वन वे रहेगा। अन्य जिन मार्गों से वाहन आएंगे, उसी मार्ग से उसकी वापसी भी होगी।

मुडि़या पूर्णिमा मेला के यातायात व्यवस्था को लेकर पुलिस और प्रशासन इस बार परिवर्तन करने की कोशिश कर रहा था। मथुरा से गोवर्धन और सौंख से गोवर्धन जाने वाले वाहनों को उसी मार्ग से वापस किए जाने की योजना बनाई गई थी। अंतिम क्षण में पूर्व में तैयार किया यातायात व्यवस्था प्लान निरस्त कर पुराने प्लान को लागू कर दिया गया। सीओ गौरव त्रिपाठी ने बताया, मथुरा मार्ग से गोवर्धन आने वाले श्रद्धालु सौंख होते हुए मथुरा वापस जाएंगे। सौंख और छटीकरा मार्ग से गोवर्धन की तरफ भारी वाहनों के प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। डीग मार्ग, बरसाना मार्ग, छाता मार्ग और छटीकरा मार्ग से आने वाले वाहन इसी मार्ग से वापस किया जाएगा। सीओ गौरव त्रिपाठी ने बताया, श्रद्धालुओं की सुविधा काे पुलिस तैनात की जाएगी। जाम से निपटने के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

ये होंगे चेतावनी बोर्ड

- अपने सामान का परिक्रमार्थी स्वयं ध्यान रखें।

-परिक्रमा आरंभ करने को दंडवती नहीं लगाएं।

-भीड़ की अधिकता के कारण दुर्घटना हो सकती है।

-टटलुओं (ठगों) से सावधान रहें।

गोवंशी भेजा गोशाला

ईओ आलोक वर्मा ने बताया, परिक्रमा मार्ग में घूम रहे बेसहारा गोवंशी को पकड़वाकर गोशाला भेजने का कार्य किया जा रहा है। 281 गोवंशी राल स्थित गोशाला भेजे गए हैं। 65 गोवंशी नगर पंचायत की गोशाला में हैं।

 

Edited By: Tanu Gupta