आगरा, जेएनएन । चालक को आई झपकी ने 29 लोगों को मौत की नींद सुला दी और 22 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। यमुना एक्सप्रेस-वे पर अब तक का यह सबसे भीषण हादसा था। लखनऊ से सवारियां लेकर दिल्ली जा रही रोडवेज की जनरथ बस UP33 AT 5877 सोमवार सुबह बेकाबू होकर करीब 35 फीट नीचे गहरे नाले में जा गिरी। बचाव कार्य होते-होते 29 सवारियां दम तोड़ चुकी थीं, जबकि 25 लोग गंभीर घायल हो गए थे। इतने भीषण हादसे से शासन-प्रशासन में खलबली मच गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वहां आनन-फानन में उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को भेजा। 

अवध डिपो की जनरथ बस रविवार रात 10.30 बजे आलमबाग रोडवेज बस स्टैंड से 52 सवारियां लेकर दिल्ली केलिए रवाना हुई। बस लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे और इनर रिंग रोड होते हुए सोमवार तड़के यमुना एक्सप्रेस वे पर पहुंची। तीन किलोमीटर चलते ही चालक को झपकी आ गई। 4.13 बजे बस अनियंत्रित होकर यमुना एक्सप्रेस वे की चार फीट ऊंची रेलिंग को तोड़ते हुए 35 फीट नीचे नाले में जा गिरी। धमाके की आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे ग्रामीण बचाव कार्य में जुट गए। 25 घायलों को निकाल कर एंबुलेंस से नजदीकी अस्पताल पहुंचा दिया गया। 

इधर, नाले के पानी में गिरी बस में तमाम अन्य सवारियां बुरी तरह से फंसी हुई थीं। करीब डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद जेसीबी से बस को सीधा किया गया। इसके बाद बस में फंसे लोगों को निकाला गया। पानी में अधिक समय तक डूबे रहने और गंभीर चोटों के कारण सभी की सांसें थम चुकी थीं। एक-एक कर 29 लोगों को बाहर निकाल लिया। इनमें एक वर्ष की मासूम बच्ची भी शामिल थी। 

उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर आए डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने घटनास्थल का मुआयना करने के साथ ही अस्पताल में घायलों का हालचाल जाना। अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बेटे व विधायक पंकज सिंह भी यहां पहुंचे। 

उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर आए डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने घटनास्थल का मुआयना करने के साथ ही अस्पताल में घायलों का हालचाल जाना। अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बेटे व विधायक पंकज सिंह भी यहां पहुंचे। 

तीन सदस्यीय उच्च स्तरीय जांच कमेटी

डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने यहां बताया कि मुख्यमंत्री के स्तर से तीन सदस्यीय उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया गया है। इसमें कमिश्नर अनिल कुमार और आइजी ए सतीश गणेश शामिल हैं। 24 घंटे में यह समिति अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये की आर्थिक मदद और घायलों का इलाज प्रदेश सरकार द्वारा कराए जाने की घोषणा भी उन्होंने की। 

डीएम ने कहा, ड्राइवर को आई थी झपकी

डीएम एनजी रवि कुमार ने बताया कि हादसे में एक बच्ची और 15 वर्षीय बालिका सहित 29 लोगों की मौत हुई है। 25 घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। प्रारंभिक जांच में लग रहा है कि बस की स्पीड तेज थी और ड्राइवर को झपकी आ गई। 

27 मृतकों की हुई शिनाख्त 

-सिद्धार्थ दुबे पुत्र राजनेश निवासी 13 जगन्नाथपुर तिवारीगंज चिनहट लखनऊ

- अंकुश श्रीवास्तव पुत्र सूर्यवंश लाल पैरी हवा गांधीनगर  अमृतबस्ती, लखनऊ।

- आकाश श्रीवास्तव पुत्र सतीश चंद्र निवासी इंद्रानगर, 813/1, सेक्टर 11 लखनऊ।

- इंतख्वाब अहमद खां निवासी 11/ 421 इंद्रानगर, अमृतबस्ती, लखनऊ।

- अमित कुमार पुत्र रामेश्वर निवासी 94 इकवारा, थाना बांसगांव जिला गोरखपुर।

- दीपक कुमार पांडेय पुत्र सीताराम पांडेय निवासी शाहपुर, भोजपुर बिहार।

- सत्यप्रकाश शर्मा पुत्र मेवाराम शर्मा, चिरंजीव विहार गाजियाबाद।

- अविनाश अवस्थी पुत्र अंशुमान निवासी 291 / 2 पड़पड़ गंज ताल कटोरा लखनऊ।

- धीरज पांडेय पुत्र प्रेम प्रकाश निवासी मकान नंबर एक 53 / 21 सेक्टर एक गोमती नगर लखनऊ। 

- आदित्य कश्यप पुत्र मनीष निवासी मेक हिन्दुस्तान मोटर्स सिनेमा रोड सदर गोरखपुर

- सत्यप्रकाश तिवारी पुत्र उमेश चंद्र निवासी मुनई पूर्वा फरमू चांदपुर गोंडा 

- प्रेमचंद पुत्र रामकुमार निवासी खेरी बदालन कुरुक्षेत्र हरियाणा 

- विजय बहादुर सिंह पुत्र सुरेन्द्र बहादुर सिंह निवासी बरपुरवा बहेरिया थोर्बास घुरवाला  रायबरेली 

- हुजूर आलम पुत्र मंसूर अली निवासी एन 123/16 लालबाग आजमपुर नार्थ वेस्ट दिल्ली

- दीपक सिंह पुत्र महीवार प्रसाद निवासी 5466, राजाजीपुरम लखनऊ

- धीरेंद्र प्रताप सिंह पुत्र पारसनाथ सिंह निवासी 341, मॉडल कॉलोनी दीप बंगला चौक के पास पुणे

- प्रयागू मिश्रा

- सुधीर कुमार मिश्रा पुत्र भोलानाथ मिश्रा

- सुशील अग्रवाल पुत्र महावीर प्रसाद निवासी 16 कैंट घटियारी मंडी लखनऊ 

- मनीष कुमार पुत्र शीतला सिंह निवासी 17 , खरागपुर लखनऊ 

- अरीबा खान पुत्र नसीर खान निवासी 70 कुंडरी रकाबगंज लखनऊ 

- मुजम्मिल सैथी पुत्र देवू निवासी किंटूर बघांसराय बाराबंकी

- भानु प्रताप पुत्र परमेश्वर निवासी खगई खेड़ा गुरुबख्शगंज रायबरेली

- रिया पुत्री भानु प्रताप निवासी खगई खेड़ा गुरुबख्शगंज रायबरेली  

- राजेंद्र सिंह पुत्र हरगोविंद सिंह निवासी मकान नंबर 19 गली नंबर दो विकास नगर उत्तम नगर नई दिल्ली 

- मनोज कुमार पुत्र रामअवतार निवासी चिल अमौसी एयरपोर्ट सरोजनी नगर लखनऊ 

- कृपाशंकर चौधरी (चालक) 

- 2 अज्ञात 

हादसे के घायलों का नाम

1. प्रवेश कुमार, अलगिलिया गहरोला आजमगढ़।

2. दिलीप श्रीवास्तव, आश्रम कॉलोनी एल्डिको कॉलोनी  लखनऊ।

3. सुनीता, खगिया खेड़ा गुरुबख्शगंज रायबरेली।

4. अशोक, दयानक पुर बाबूगढ़ हापुड़।

5. सोनी प्रजापति, गरगेड़ी चिल्ह मीरजापुर।

6. साहम, रस्तामऊ तिलोइ, मोहनगंज, अमेठी।

7- ऋषि यादव, माटी बाजार देवा रोड बाराबंकी

8. संजीत कुमार, इसल राधेपुर कुरेमार सुलतानपुर 

9- मनीष शुक्ला, 5/339 आवास विकास बाराबंकी 

10- मंजू शर्मा, 18 सेक्टर दो चिरंजीवी नगर कवि नगर गाजियाबाद

11- गौरव सिंह, 16/962 मंसी पुलिया इंद्रानगर लखनऊ

12- जुनैद आलम, मोहल्ला अंसारियान बिलारी मुरादाबाद

13- प्रकर्ष सिंह, बडीहपुर दीदारगंज आजमगढ़ 

14- अर्पित श्रीवास्तव, 1058 ए शिव नगर अल्लापुर प्रयागराज 

15- मो अदीब निवासी, 532 ए/46 ख चौधरी टोला अलीगंज लखनऊ 

16- प्रियांशी, 347/58 नौबस्ता लखनऊ 

17- अंकुर पाल, 3/131 बी विराट खंड गोमती नगर लखनऊ 

18- युवराज, खगई खेड़ा गुरुबख्श गंज रायबरेली 

19- मनीष गौतम, 1439 सेक्टर 16 इंद्रानगर लखनऊ 

20- अरुणेंद्र त्रिपाठी, संत नगर मकान नंबर 1552 बुराड़ी दिल्ली 

21- हेमंत कुमार पांडेय, 228 सेक्टर आठ फरीदाबाद 

22- राकेश तिवारी, गली नंबर दो वेस्ट करावल नगर, दिल्ली 

23- अविनाश मिश्रा, बालापुर शिवदयाल गंज नवाबगंज गौंडा 

24-  दो व्यक्ति कोमा में हैं। दोनों एसएन इमरजेंसी में भर्ती हैं।

जारी हुए टोल फ्री नंबर

यमुना एक्सप्रेस-वे बस हादसे के संबंध में पुलिस कंट्रोल रूम और रोडवेज ने हेल्पाइन नंबर जारी किए हैं। 

पुलिस- 0562-2260001 

रोडवेज-18001802877 

यमुना एक्सप्रेस-वे पर इस वर्ष के बड़े हादसे

1- 3 मार्च 2019 

3 मार्च 2019 को यमुना एक्सप्रेस-वे पर भीषण हादसे में आठ लोगों की मौत हो गई थी। 30 लोग घायल हो गए थे। तेज रफ्तार से आ रही यात्रियों से भरी बस खड़े ट्रक में जा घुसी थी। जिसमें मौके पर ही आठ लोगों की मौत हो गई थी।

2- 3 जून 2019

नोएडा से भिण्ड जा रही एक डबल डेकर निजी बस पलट गई जिससे उसमें बैठे चार लोगों की मौके पर ही मृत्यु हो गई और दो दर्जन से अधिक घायल हो गए थे।

3- 16 जून 2019

यमुना एक्सप्रेस-वे पर 16 जून को भी भीषण हादसा हुआ था। नोएडा से आगरा जा रहे एक ही परिवार के लोग हादसे का शिकार हो गए थे। हादसे में तीन महिलाओं और एक बच्ची सहित पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि छठे सदस्य ने इलाज के लिए ले जाते समय दम तोड़ दिया था।

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस