आगरा, जागरण संवाददाता। एसएन मेडिकल कॉलेज की 28 एमबीबीएस सीटों पर संकट मंडरा रहा है। यहां एमबीबीएस की 150 सीटें हैं, इन सीटों के लिए मानक पूरे नहीं हैं। ऐसे में नए सत्र में एमबीबीएस की सीटें कम हो सकती हैं।

एसएन में एमबीबीएस की 128 स्थायी सीटें हैं, चार साल पहले 22 सीटें बढ़ाई गईं थी। इन 22 सीटों की अस्थायी मान्यता है, मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (गवर्निंग बॉडी ऑफ एमसीआइ) द्वारा हर साल निरीक्षण के बाद सीटें निर्धारित की जाती हैं। दो साल पहले अस्थायी 22 सीटों पर प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। इस बार भी हालात अच्छे नहीं हैं, एसएन में 227 पदों पर नियमित और संविदा सहित 158 चिकित्सा शिक्षक कार्यरत हैं। इसके साथ ही लाइब्रेरी, हॉस्टल भी तैयार नहीं हुए हैं। वहीं, पीजी की 100 सीटें हैं, चिकित्सा शिक्षकों की कमी से इन सीटों पर भी असर पड़ सकता है। प्राचार्य डॉ. जीके अनेजा ने बताया कि मानक पूरे किए जा रहे हैं, जिससे एमबीबीएस की 150 सीटों पर प्रवेश हो सके।

विभागों में प्रोफेसर नहीं

एसएन के मनोचिकित्सा विभाग, चर्म रोग विभाग, माइक्रोबायोलॉजी विभाग अस्थि रोग विभाग में नियमित प्रोफेसर नहीं हैं।

18 चिकित्सकों का हुआ तबादला, नहीं किया ज्वाइन

एसएन में चिकित्सा शिक्षकों की कमी है, ऐसे में 2018 में 18 चिकित्सा शिक्षकों का अन्य मेडिकल कॉलेजों में तबादला कर दिया गया। तबादले के बाद कई चिकित्सा शिक्षकों ने ज्वाइन तक नहीं किया है।  

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस