आगरा, जेएनएन। यमुना एक्सप्रेस वे के सर्विस रोड पर वृंदावन कट के समीप गुरुवार को तीसरे पहर एलपी गैस से भरा कैप्सूल पलट गया। कैप्सूल जयपुर से अलीगढ़ जा रहा था। सूचना अधिकारी मौके पर दौड़े। फायर ब्रिगेड और इंडियन आयल कारपोरेशन (आइओसीएल) की टीम गैस का रिसाव रोकने का प्रयास कर रही है। पुलिस ने एक किमी के दायरे में लोग और वाहनों की आवाजाही रोक दी है। देररात तक गैस का रिसाव जारी था। हालांकि, घटनास्थल के आसपास कोई आबादी क्षेत्र नहीं है।

राजस्थान के बूंदी जिले के गांव हिडोली निवासी हेमराज गुर्जर जयपुर से एलपी गैस कैप्सूल लेकर अलीगढ़-खैर मार्ग स्थित गांव करसुआ के समीप गैस प्लांट पर लेकर जा रहा था। यमुना एक्सप्रेस वे के वृंदावन कट से चालक ने कैप्सूल को सर्विस रोड पर नीचे उतार लिया। वह अंडरपास के नीचे होकर मांट से खैर के लिए सीधे निकल जाता। इससे पहले ही यमुना एक्सप्रेस वे माइल स्टोन 102 के समीप पलट गया। चालक हेमराज ने बताया, सड़क में गड्ढा था। अगला पहिया उसमें धंस गया और स्टेयरिंग लाक हो गई। इससे कैप्सूल पलट गया। जिस स्थल पर गैस कैप्सूल पलटा है, उसके आसपास कोई आबादी क्षेत्र नहीं है। गैस कैप्सूल पलटने की सूचना पर मुख्य अग्निशमन अधिकारी प्रमोद शर्मा, एसडीएम मांट रामदत्त, सीओ मांट नेत्रपाल सिंह घटनास्थल पर पहुंच गए। पुलिस ने एक किलोमीटर के दायरे में वाहन और लोगों की आवाजाही को रोक दिया। फायरब्रिगेड ने पानी की बौछार कर गैस के फैलाव को रोका। आइओसीएल के इंजीनियर भी घटनास्थल पर पहुंच गए। सीएफओ ने बताया, कैप्सूल का नाजिल नीचे दब गया है। दो क्रेन भी बुला ली गई है। क्रेन से कैप्सूल का सीधा किए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं। कैप्सूल के सीधा होने पर ही गैस का रिसाव रुक पाएगा। घटना के साढ़े चार घंटे बाद भी कैप्सूल को सीधा नहीं किया जा सका। इधर, आइओसीएल के इंजीनियर रिसाव रोकने के प्रयास कर रहे हैं, लेकिन उनको सफलता नहीं मिल पा रही है। देररात तक गैस का रिसाव जारी था।

बारिश में कट गया रोड: यमुना एक्सप्रेस वे वे का सर्विस रोड बारिश से कटान हो गया। कई स्थानों पर गहरे गड्ढे हो गए हैं। बबूल खड़ी होने के कारण ये गड्ढे दिखाई नहीं दे रहे हैं। कैप्सूल चालक का कहना था, एक छाेटा सा गड्ढा था। उसने सोचा, कैप्सूल निकल जाएगा। अगला पहिया में उसमें धंसता ही चला गया। स्टेयरिंग लाक हो गई और कैप्सूल पलट गया था। एक्सप्रेस का अधिकांश सर्विस रोड खराब पड़ा हुआ है। मांट होकर अलीगढ़ जाने की दूरी कम है, जबकि राया से इगलास होकर अलीगढ़ दूर पड़ता है। इसलिए चालक इस रास्ते पर कैप्सूल को लेकर आया था। ताकि कम समय वह सीधे खैर पहुंच जाएगा। 

Edited By: Prateek Gupta