आगरा, जागरण संवाददाता । फर्जी अनुभव प्रमाणपत्र से मेडिकल स्टोर के लाइसेंस जारी कर दिए गए। औषधि आयुक्त की जांच में फर्जीवाड़ा पकड़े जाने के बाद सात मेडिकल स्टोर के लाइसेंस निरस्त करने की संस्तुति की गई है।

सहायक आयुक्त औषधि नरेश मोहन दीपक ने जांच की, इसमें सामने आया कि सिघल मेडिकल स्टोर, मुबारक महल के नाम से फर्जी अनुभव प्रमाण पत्र जारी किए गए हैं। थोक दवा की दुकान के लाइसेंस के लिए अनुभव प्रमाणपत्र लगाए जाते हैं, ऐसे में सिघल मेडिकल स्टोर पर काम करने का अनुभव प्रमाणपत्र लगाकर सात मेडिकल स्टोर के लाइसेंस जारी कर दिए गए। उन्होंने मेडिकल स्टोर के लाइसेंस निरस्त करने की संस्तुति की है। सहायक आयुक्त औषधि अखिलेश जैन ने बताया कि इस मामले में जांच रिपोर्ट मांगी गई है, इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। फर्जी फर्म से चल रहा नशीली और अवैध दवाओं का कारोबार

कई राज्यों में फव्वारा दवा बाजार से नशीली और अवैध दवाएं सप्लाई की जा रही हैं। फर्जी फर्म बनाकर यह अवैध धंधा चल रहा है। रामपुर में पकड़ी गई नशीली दवाएं शशांक मेडिकल एजेंसी, फव्वारा से सप्लाई की गई थीं, इस फर्म का पता ही नहीं चला है। इससे पहले भी फर्जी फर्म पकड़ी जा चुकी हैं। इन मेडिकल स्टोर के लाइसेंस निरस्त करने की संस्तुति

-श्री कृष्णा फार्मेसी एंड सर्जिकल्स, अग्रसेन पुरम ट्रांस यमुना फेज द्वितीय।

-चाहर ड्रग एजेंसी, देव नगर खंदारी।

-वीआर एंटरप्राइजेज, रोहता का बाग, ग्वालियर रोड।

-मां विन्ध्यावासिनी फार्मा, सेवला।

-जय फार्मा, आवास विकास कालोनी।

-कुणाल फार्मा, वीआइपी कालोनी, सेवला जाट।

-तोमर डिस्ट्रीब्यूटर, क्लाथ मार्केट, संजय प्लेस।

Edited By: Jagran