आगरा, (जासं): तकरीबन डेढ़ साल ही हुआ था बहू को आए। बड़े अरमानों के साथ बेटे का ब्याह किया था। शादी के चंद दिनों बाद ही बहू का तथाकथित भाई आने लगा। बहाने से घर ही रुक जाता। बाद में माजरा समझ आया। वह भाई नहीं बल्कि प्रेमी था। बहू के साथ उसके अवैध संबंधों का विरोध करना सास के लिए इतना भारी पड़ गया कि उनकी जान चली गई।

मामला कासगंज के ढोलना थाना क्षेत्र के गांव इखौना का है। यहां के निवासी राजू पुत्र शैतान सिंंह की शादी 14 माह पहले जिला एटा के थाना मलावन के गांव तुरकीपुरा निवासी जगदीश यादव की बेटी पूनम से हुई थी। ग्रामीणों ने बताया कि पूनम के गांव में राहुल पुत्र रामबाबू निवासी जखैरा की ननिहाल थी। ननिहाल आने के दौरान राहुल और पूनम के संबंध हो गए, यह अवैध संबंध शादी के बाद भी बरकरार रहे। शादी के बाद भी राहुल पूनम के पास आता था, बहन बताकर रुकता था। इसको लेकर ससुराल में सास और पूनम के बीच कलह भी होती थी।

बताया गया है कि एक सप्ताह पहले राजू अपनी पत्नी को लिवाने ससुराल गया तो उसने आने से मना कर दिया। इसके तीन दिन बाद राहुल राजू की पत्नी पूनम को उसके गांव छोडऩे आया था। इसके बाद पूनम के पिता जगदीश और चाचा दिनेश यादव भी इखौना आ गए। मंगलवार रात को पूनम के मायके वालों ने राजू के परिजनों से कहा कि आपके यहां सास-बहू में विवाद होता है, आप बाहर सो जाएं। हम सास-बहू को समझाएंगे।

बुधवार तड़के करीब चार बजे पूनम और राहुल के अलावा उसके पिता व चाचा ने राजू की मां भूरी देवी की सीढिय़ों में ले जाकर गला दबाकर हत्या कर दी। खटपट की आवाज आने पर मृतका के पति शैतान सिंंह अंदर पहुंचे तो आरोपित भाग निकले। जानकारी होते ही ग्रामीण और ससुरालियों ने पीछा कर जगदीश यादव और दिनेश यादव को दबोच लिया, जबकि राहुल मौके से फरार हो गया। वहीं, पूनम को महिलाओं ने घर में बंद कर लिया। जानकारी पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। थानाध्यक्ष गणेश कुमार चौहान ने बताया कि मृतका के पति शैतान ङ्क्षसह की तहरीर पर आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। दो आरोपित हिरासत में हैं, उन्हें जेल भेजा जाएगा। राहुल की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित कर दी गई है।

 

Posted By: Prateek Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप