आगरा, जेएनएन। सोमवार को पहली भोर ने जैसे ही महारानी के महल को स्पर्श किया, श्रद्धा का समंदर कीर्ति मंदिर की तरफ मुड़ गया। अनुमानित 100 करोड़ रुपये की लागत से बने मंदिर में कीरत महारानी के दर्शन को जनमानस उमड़ पड़ा। मां कीरत की गोद में विराजमान लाडि़ली राधारानी के स्वरूप दर्शन को भक्त अपलक निहारते रहे। इसके साथ ही कीर्ति मंदिर के कपाट भी आम जन मानस के लिए खोल दिए गए।


कीरत महारानी के दिव्य महल के दर्शनों को सुबह सात बजे से ही बरसाना, देहात, गाजीपुर, श्रीनगर, ऊंचागांव, चिकसोली, मानपुर, रूपनगर के अलावा आसपास के राज्यों से करीब 15 हजार श्रद्धालु मंदिर के गेट पर पहुंच गए। आठ बजते ही मंदिर के कपाट सभी के लिए खोल दिए गए। ब्रजवासी कीरत महारानी व राधारानी के जयकारे लगाते हुए मंदिर में प्रवेश कर रहे थे। भक्त कीरत महारानी की गोद में बाल स्वरूप में बैठी बृषभान दुलारी को निहारते रहे। कृपालु जी महाराज की पुत्रियां डॉ. विशाखा त्रिपाठी, डॉ. श्यामा त्रिपाठी, डॉ. कृष्णा त्रिपाठी ब्रजवासियों को लड्डू, कम्बल व थाली भेंट की। रंगीली महल के सचिव नितिन गुप्ता ने बताया कि मंगलवार को रंगीली महल परिसर में लगने वाले रक्तदान शिविर में कृपालु महाराज के हजारों अनुयायी रक्तदान करेंगे।
 

Posted By: Prateek Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप