आगरा [जेएनएन]: अपने आपको गरीबों और किसानों का हितैषी बताने वाली सरकार आज सबसे ज्यादा इन्हीं पर धौंस जमा रही है। जनता अब तक की सरकारों की चालें समझ चुकी है, इसलिये राजस्थान में कांग्रेस और भाजपा का विकल्प चाहती है। राजस्थान चुनाव पर अपनी पार्टी की जीत की निश्चिंतता जताते हुए यह बोले रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी।

मथुरा के शेरगढ़ में पूर्व गृहमंत्री स्व. सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती सप्ताह कार्यक्रम के समापन पर जयंत आए थे। उन्होंने अपने भाषण की शुरूआत किसानों से ही की। कहा कि किसानों को उनकी फसल का मूल्य नहीं मिल पा रहा। सरकार में भ्रष्टाचार खुलेआम धौंस देकर पैसा वसूला जा रहा है। साफगोई की बात करने वाली सरकार में पारदर्शिता की बात नहीं रही। सरकार आरबीआइ तक को दबाने का प्रयास कर रही है। बिजली के बड़े बकायदार अंबानी- अडानी जैसे लोग बेखौफ हैं। उनके खिलाफ कोई एफआइआर दर्ज नहीं होती, जबकि पांच सौ- हजार रुपये के बकायदार छोटे किसानों के घर सरकार दबिश दिलवा रही है। उन्होंने कहा कि युवाओं को अपना इतिहास समझना होगा। संघर्ष हमेशा से किसानों ने किया है। हम किसान के बेटे हैं। अब हमें किसी के बहकावे में आने की जरूरत नहीं है। सरदार पटेल भी किसानों के नेता थे। उन्होंने कई आंदोलन किसानों के लिए खड़े किए थे। उनपर सबसे पहला हक हमारा है। जयंत ने आगे कहा कि उप्र में कॉपरेटिव सोसायटी कंगाल हो चुकी हैं। इसके पीछे हाथ उन लोगों का है जो जनता से वोट तो ले लेते हैं लेकिन बदले में काम कोई नहीं करते। उन्होंने कहा कि उप्र में इस बार चुनाव कैराना की तरह ही लड़ा जाएगा।  

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस