आगरा, जेएनएन। वरिष्ठ भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि हमारे लिए लोकतंत्र आवश्यक है। लोकतंत्र से खिलवाड़ होने पर लोगों को विद्रोह करना होगा। आने वाले 20 सालों में भारत अमेरिका का मुकाबला करने योग्य होगा। इस बार देश की जनता ने जाति, धर्म, भाषा, क्षेत्र से ऊपर उठकर लोकतंत्र के लिए वोट डाला। उन्होंने भरोसा जताते हुए कहा कि इस साल राम मंदिर पर काम शुरू हो जाएगा। 

यह बात सुब्रमण्यम स्वामी ने मंगलवार को बीएसए इंजीनियङ्क्षरग कॉलेज के सभागार में आपातकाल के 44 वर्ष पूरे होने लोकतंत्र रक्षक दिवस के नाम पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के तौर व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि जैसे हर साल रामायण कथा होती है, वैसे ही आपातकाल की कथा कहने की जरूरत है। इस काम में अप्रवासी भारतीयों का भी बहुत बड़ा योगदान रहा है।

राम मंदिर का जिक्र करते हुए स्वामी ने राम मंदिर पर काम शुरू हो जाने के प्रति आश्वस्त करते हुए कहा कि उसके बाद मथुरा की बारी है और फिर काशी विश्वनाथ। इसे महाभारत के आख्यान से जोड़ते हुए दुर्योधन के समक्ष श्रीकृष्ण के पांच गांवों के प्रस्ताव की तरह तीनों मस्जिदों की मुक्ति को कृष्णा पैकेज का नाम दिया। इशारों में कहा कि मुसलमान तीन की बात मान लें तो चालीस हजार के लिए खतरा नहीं है।

विशिष्ट वक्ता राम बहादुर राय ने कहा कि पीएम मोदी के आने के बाद आज कुछ लोग कह रहे है कि संविधान खतरे में हैं। सच यह है कि संविधान को खतरा आपातकाल में हुआ। आपातकाल के बाद इमरजेंसी पर लोकतंत्र की मोहर लगाने के लिए इंदिरा ने चुनाव कराया। इमरजेंसी में संविधान को अंदर से बदल दिया गया, उसकी प्रस्तावना बदली गई।

आपातकाल में सरदार बन घूमा

आपातकाल के दौरान अपनी भूमिका की चर्चा करते हुए डॉ. सुब्रमण्यम ने कहा कि वह भूमिगत रह सरकार के खिलाफ काम करते रहे। स्वामी ने कहा कि वह सरदार बनकर घूूमते थे। नानाजी देशमुख और जय प्रकाश नारायण चाहते थे कि मैं विदेश जाकर विदेशी मीडिया में आपातकाल के सच को दुनिया के सामने लाऊं। यही काम मैंने किया।  

आजम को रासुका में भेजेंगे जेल

तीन तलाक पर सपा नेता आजम खान के विरोध से जुड़े सवाल पर भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि वह तो ऐसे ही बोलता रहता है, उनके मानने, न मानने से क्या होता है। तीन तलाक की पार्टियामेंट में पुष्टि हो जाए। ये रास्ते में आड़े आएगा तो इसे नेशनल सिक्योरिटी एक्ट में बंद कर देंगे। ये महिला का अधिकार है। ये कौन होता है ऐसे बोलने वाला। 

मीडिया से बात करते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता स्वामी ने कहा कि मंदिर पर मैंने रास्ता भी बता दिया कि जमीन सरकार की है सरकार जमीन दे दे, काम शुरू कर देंगे। सब प्री-फेब्रीकेटेड मेटीरियल है, सब उसे फिट करने की बात है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Prateek Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप