आगरा, जागरण संवाददाता। अगर आपने आगरा विकास प्राधिकरण (एडीए) से कोई भी भूखंड या फिर फ्लैट लिया है। पांच साल से एक भी किसत जमा नहीं की है तो आपकी परेशानी बढ़ सकती है। एडीए ऐसे डिफाल्टर बकायेदारों की सूची तैयार कर रहा है। अगस्त के दूसरे सप्ताह से बकायेदारों पर कार्रवाई शुरू होगी।

एडीए की ताजनगरी फेज-प्रथम और द्वितीय, शास्त्रीपुरम, कालिंदी विहार, जवाहर नगर, अशोक नगर में फ्लैट सहित अन्य आवासीय और व्यावसायिक योजनाएं हैं। इन योजनाओं में तीन हजार आवंटी ऐसे हैं जिन पर 414 करोड़ रुपये की बकायेदारी है। नोटिस देने के बाद भी पैसा जमा कराने नहीं आ रहे हैं। कोविड संक्रमण के बाद पैसा जमा कराने वाले आवंटियों की रफ्तार और भी धीमी हो गई। एडीए उपाध्यक्ष डा. राजेंद्र पैंसिया ने बताया कि पांच साल से एक भी किस्त जमा न कराने वाले स्वामियों का आवंटन निरस्त किया जाएगा।

नहीं माफ किया जा सकता ब्याज

एडीए से भूखंड या फिर फ्लैट लेने वाले लोगों को ब्याज में कोई माफी नहीं मिलेगी। मूलधन के साथ ही ब्याज भी अदा करना पड़ेगा।

 

Edited By: Tanu Gupta