आगरा, जागरण संवाददाता। एत्मादपुर में निजी कंपनी के सुपरवाइजर से लूट करने वाले मैनपुरी के गैंग का सरगना 25 हजार का इनामी निकला। एत्मादपुर थाने से ही वह दो वर्ष से फरार चल रहा था। उप्र समेत चार राज्यों में वारदात करने वाले गैंग के सरगना समेत तीन को गिरफ्तार कर पुलिस ने घटना का पर्दाफाश कर दिया। गिरफ्तार लुटेरों से घटना में इस्तेमाल की गई कार और 1.29 लाख रुपये भी बरामद कर लिए हैं। अभी शातिरों के अपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।

फीराेजाबाद के शिकोहाबाद निवासी नंद किशोर निजी कंपनी में सुपरवाइजर हैं। 30 जुलाई को वे रामबाग फ्लाइओवर से एक वैगनआर कार में बैठे थे। कार सवार बदमाश थे, उन्होंने नंदकिशोर से 1.50 लाख रुपये लूटकर एत्मादपुर के बुढ़िया के ताल के पास हाईवे पर फेंक दिया था। एत्मादपुर थाने में लूट का मुकदमा दर्ज हुआ। इसके बाद एसओजी टीम और थाना पुलिस लुटेरों की तलाश में लगी थी। एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि पुलिस को बदमाशों के आगरा की ओर आने की जानकारी मिली। एत्मादपुर क्षेत्र में राष्ट्रदीप होटल के पास घेराबंदी कर पुलिस ने मैनपुरी के भोगांव में गिहार कॉलोनी निवासी सरगना संजीव कुमार, आकाश और नगला दिन्ना निवासी सतेंद्र को वैगनआर कार के साथ दबोच लिया। आरोपितों ने पूछताछ में घटना कुबूल कर ली। एसएसपी ने बताया कि घटना में गिरफ्तार लुटेरों के साथ गिहार कॉलेनी का अर्जुन भी शामिल था। वह अभी फरार है। नंद किशोर से लूट करने के बाद अभियुक्तों ने लूटा गया मोबाइल पुलिस को भ्रमित करने के लिए इनर रिंग रोड पर जा रहे ट्रोला पर स्विच ऑफ करके फेंक दिय। इसके बाद यूटर्न लेकर वे टूंडला की ओर चले गए। संजीव का नाम वर्ष 2018 में हाईवे पर लूट के मामले में ही प्रकाश में आया था। एत्मादपुर थाने के लूट के मुकदमे में संजीव और चांदनी फरार थे। इन पर पूर्व में 25 हजार रुपये का इनाम घोषित हो चुका है। यह गैंग एक वर्ष में उप्र के कन्नौज, कानपुर,लखनऊ, इलाहाबाद, बदायूं, शाहजहांपुर, मथुरा के साथ ही राजस्थान, मप्र, हरियाणा और दिल्ली में भी इसी अंदाज में लूट कर चुका है। यहां से गैंग के सदस्यों का अपराधिक इतिहास पता किया जा रहा है।

फरवरी में एटीएम कार्ड लूटकर उससे निकाले थे 20 हजार

पुलिस के अनुसार, इस गैंग ने फरवरी 2020 में वैगनआर कार पर फर्जी नंबर प्लेट लगाकर भगवान टॉकीज से एक व्यक्ति को बैठाकर लूटा था। उस व्यक्ति से 10 हजा र रुपये और एटीएम कार्ड लेकर उससे मारपीट कर कोड पूछ लिया। इसके बाद रामबाग की ओर लौटकर आए। गोयल सिटी हॉस्पिटल के सामने लगे एटीएम से लूटे गए एटीएम कार्ड के माध्यम से 20 हजार रुपये निकाले थे। इससे पहले खंदौली से भी सवारी बैठाकर यह गैंग लूट कर चुका है।

गिरफ्तार करने वाली टीम

क्रिमिनल इंटेलीजेंस विंग के प्रभारी इंस्पेक्टर कमलेश सिंह, इंस्पेक्टर एत्मादपुर सलीम खान, एसओजी प्रभारी कुलदीप दीक्षित, एसआइ प्रदीप कुमार, एसआइ संजय कुमार, एसआइ नीरज कुमार, हेड कांस्टेबल आदेश त्रिपाठी, कांस्टेबल प्रशांत सिंह, अजीत, राजकुमार, अरुण शामिल रहे।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस