आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना काल में इंटरनेशनल फ्लाइटों को निरंतर स्थगित किए जाने से आगरा का पर्यटन कारोबार पूरी तरह से भारतीय पर्यटकों पर निर्भर हो गया है। कोरोना काल से पूर्व क्रिसमस से नववर्ष तक ताजमहल देखने अप्रवासी भारतीयों (एनआरआइ) की भीड़ उमड़ा करती थी। इन दिनों ताजमहल पर भारतीय ही नजर आ रहे हैं। लगातार दूसरा पर्यटन सीजन कोरोना के चलते खराब जा रहा है।

कोरोना काल में मार्च, 2020 से इंटरनेशनल फ्लाइट स्थगित चल रही हैं। सरकार ने फ्लाइटों को 31 जनवरी तक के लिए स्थगित कर रखा है। इसके चलते विदेशी पर्यटक नहीं आ पा रहे हैं। केवल वही विदेशी ताजमहल देखने आ रहे हैं, जो देश में नौकरी, व्यवसाय या शिक्षा प्राप्त करने आए हुए हैं। इससे आगरा का पर्यटन कारोबार भारतीय पर्यटकों तक सिमट गया है। बीते तीन दिन के आंकड़ों को देखें तो ताजमहल देखने 89202 भारतीय और 806 विदेशी पर्यटक पहुंचे। विदेशी पर्यटकों की संख्या, भारतीय पर्यटकों की तुलना में एक फीसद भी नहीं रही।

बीते तीन दिन में ताजमहल पर पर्यटकों की स्थिति

दिन, भारतीय, विदेशी

शनिवार, 33457, 334

रविवार, 33497, 250

सोमवार, 22248, 222

कुल, 89202, 806

सोमवार को 22470 पर्यटकों ने देखा ताजमहल

सोमवार को ताजमहल देखने के लिए 22470 पर्यटक पहुंचे। दोपहर 12 बजे के बाद पूर्वी व पश्चिमी गेट पर पर्यटकों को टिकट स्कैनिंग व सुरक्षा जांच के लिए लाइन में लगकर लंबा इंतजार करना पड़ा। रविवार को 33747 पर्यटकों ने ताजमहल निहारा था। सोमवार को आगरा किला देखने 5970 पर्यटक पहुंचे, जबकि रविवार को 8501 पर्यटक आए थे।

कोरोना काल से पूर्व क्रिसमस व नववर्ष पर अप्रवासी भारतीय बड़ी संख्या में ताजमहल देखने आते थे। कोरोना काल में इंटरनेशनल फ्लाइटों को स्थगित किए जाने से लगातार दूसरा पर्यटन सीजन खराब जा रहा है।

-राजेश शर्मा, सचिव टूरिज्म गिल्ड आफ आगरा

कोरोना वायरस के संक्रमण के नए वैरिएंट ओमिक्रोन ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है। 31 जनवरी तक इंटरनेशनल फ्लाइट स्थगित हैं। ताजनगरी में लगातार दूसरा पर्यटन सीजन खराब हुआ है।

-सुमित उपाध्याय, टूर आपरेटर

 

Edited By: Prateek Gupta