आगरा, जागरण संवाददाता। डेढ़ वर्ष से स्थगित चल रहीं इंटरनेशनल फ्लाइट 15 दिसंबर से शुरू करने की घोषणा केंद्र सरकार ने कर दी है। फ्लाइट तो शुरू हो जाएंगी, लेकिन पर्यटकों का अभी इंतजार करना पड़ा। सरकार ने जिन 14 देशों को प्रतिबंधित देशों में शामिल किया है, उन्हीं देशों के पर्यटक यहां अधिक आते हैं। इससे आगरा के पर्यटन कारोबारियों को इस सीजन राहत मिलती नजर नहीं आ रही है।

कोरोना वायरस के संक्रमण काल में पिछले वर्ष 23 मार्च से सरकार ने इंटरनेशनल फ्लाइट पर रोक लगा दी थी। यह रोक अभी भी लागू है, केवल उन देशों के लिए फ्लाइट संचालित हो रही हैं जो एयर बबल में हैं। सरकार ने 15 अक्टूबर से चार्टर्ड प्लेन और 15 नवंबर से इंटरनेशनल फ्लाइट से आने वाले पर्यटकों को टूरिस्ट वीजा देना शुरू कर दिया था। शुक्रवार को सरकार ने 15 दिसंबर से इंटरनेशनल फ्लाइट शुरू करने की घोषणा कर दी, लेकिन इसका आगरा के पर्यटन उद्योग को हाल-फिलहाल अधिक फायदा मिलता नजर नहीं आ रहा है। आगरा के पर्यटन उद्याेग को कोरोना काल से पूर्व की स्थिति में आने के लिए इंतजार करना पड़ेगा।

इन देशों के लिए लागू रहेगा एयर बबल

14 देशों को छोड़कर अन्य सभी देशों के लिए भारत से नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का संचालन होगा। प्रतिबंधित देशों में शामिल, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, नीदरलैंड, फिनलैंड, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, चीन, मारीशस, सिंगापुर, बांग्लादेश, बोत्सवाना, जिम्बांबे और न्यूजीलैंड शामिल हैं। इन देशों के लिए एयर बबल व्यवस्था रहेगी।

आगरा में ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, हालैंड, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, चीन, मारीशस, बांग्लादेश, न्यूजीलैंड, सिंगापुर, फिनलैंड आदि देशों से पर्यटक अधिक आते हैं। इन देशों को एयर बबल में रखा गया है और टूरिस्ट वीजा भी नहीं दिया जा रहा है। अमेरिका में हालात सही नहीं हैं। इस सीजन में इंतजार करना पड़ेगा।

-राजीव सक्सेना, उपाध्यक्ष टूरिज्म गिल्ड आफ आगरा

डेढ़ वर्ष से अधिक समय से आगरा का इनबाउंड टूरिज्म (विदेशी पर्यटन) का काम पूरी तरह ठप पड़ा हुआ है। सरकार द्वारा इंटरनेशनल फ्लाइटें शुरू किए जाने से लोगों को कुछ काम तो मिलेगा। स्थिति सामान्य होने पर 14 देशों पर लगाए गए प्रतिबंध हटेंगे तो यहां पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी।

-राकेश चौहान, अध्यक्ष होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन

Edited By: Prateek Gupta