आगरा, जागरण संवाददाता। हरीपर्वत क्षेत्र की एक किशोरी लव जिहाद का शिकार बन गई। घर आने वाले युवक ने नाम बदलकर उससे दोस्ती कर ली।किशोरी को घर से साथ ले जाकर मतांतरण कराया और निकाह भी कर लिया। बालिग दर्शाने को उसने फर्जी आधार कार्ड भी तैयार कराया था। 15 दिन बाद किशोरी किसी तरह अपने घर पहुंच गई। अब स्वजन ने हरीपर्वत थाने में युवक और उसके स्वजन के खिलाफ उप्र विधि विरुद्ध मतांतरण प्रतिषेध अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज दर्ज करा दिया। पुलिस ने इस मामले में युवक के पिता, मां, दो भाई और बहन को गिरफ्तार कर लिया।

हरीपर्वत क्षेत्र की एक 16 वर्षीय किशोरी के पिता एक फैक्ट्री में काम करते हैं। उनके साथ फैक्ट्री में काम करने वाले खंदारी निवासी कासिम कुरैशी का घर आना-जाना था। उसने अपना नाम विक्की यादव बताया था। युवक की बहन का भी घर आना-जाना हेा गया। उसने अपना नोम साेनम यादव बताया था। धीरे-धीरे कासिम ने किशोरी से दोस्ती कर ली। इसके बाद उसके बहला फुसलकार 15 जून को घर से अपने साथ ले गया। स्वजन उसकी तलाश कर रहे थे। तब उन्हें अपने घर आने वाले युवक के असली नाम और पते की जानकारी हुई। उन्हें यह भी पता चल गया कि कासिम कुरैशी ही उनकी बेटी को ले गया है। उन्होंने कासिम के घर जाकर पूरी जानकारी की। उसके स्वजन ने कह दिया कि पुलिस से शिकायत की तो उन्हीं की बदनामी होगी।बदनामी के डर से किशोरी के स्वजन ने पुलिस से शिकायत नहीं की। युवक के स्वजन ने आश्वासन दिया कि किशोरी घर लौट आएगी। एक जुलाई को वह घर वापस आई तो पता चला कि उसका मतांतरण करा दिया गया। किशोरी को बालिग दर्शाने के लिए उसने फर्जी आधार कार्ड बनवा लिया। इस पर बदला हुआ नाम अंकित कराया। इसके बाद उसी बदले हुए नाम से किशोरी से निकाह भी कर लिया गया है। किशोरी ने यह भी बताया कि वह गर्भवती है। आरोपित की दो बहनें भी इस साजिश में शामिल थीं। उन्हें पूरे मामले की जानकारी थी। किशोरी के पिता अब भी पुलिस से शिकायत की हिम्मत नहीं कर पा रहे थे। शुक्रवार को भाजपा नेताओं को जानकारी हो गई। इसके बाद भाजपा विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल हरीपर्वत थाने पहुंच गए और किशोरी के स्वजन को बुला लिया गया। किशोरी के पिता की तहरीर पर पुलिस ने आरोपित कासिम कुरैशी और उसके स्वजन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि मुकदमे में पाक्सो एक्ट और दुष्कर्म के साथ ही उप्र विधि विरुद्ध मतांतरण प्रतिषेध अधिनियम की धारा तीन और चार भी हैं। पीड़िता का मेडिकल कराया जा रहा है। आरोपित के पिता रईसुद्दीन, बहन सोनम कुरैशी, मां रुखसार और भाई शकील व कामिल गिरफ्तार कर लिए गए हैं। फर्जी दस्तावेजों आधार पर मतांतरण कराके निकाह कराने वाले मौलवी और आरोपित युवक की गिरफ्तारी को पुलिस दबिश दे रही है।

धर्मांतरण के बाद किशोरी का कर दिया ब्रेन वॉश

किशोरी के स्वजन ने पुलिस को बताया कि आरोपित बेहद शातिर है। उसने किशोरी का ब्रेन वॉश कर दिया है। धर्मांतरण करने के बाद किशोरी अब युवक के साथ रहने पर ही अड़ी थी। वह किसी की सुनने को तैयार ही नहीं थी। मगर, वह नाबालिग है। इसलिए पीड़िता की मर्जी के कोई मायने नहीं हैं। कोर्ट में उसके बयान दर्ज कराए जाएंगे। कोर्ट से ही उसकी सुपुर्दगी का निर्णय होगा।

Edited By: Prateek Gupta