आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा में प्रिया हास्पिटल, ट्रांस यमुना कालोनी फेस टू में हरियाण और स्थानीय पूर्व गर्भाधान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक टीम (पीसीपीएनडीटी) की टीम ने शनिवार को स्टिंग में भ्रूण लिंग परीक्षण करते संचालक डा. राजीव कुमार डाक्टर को पकड़ लिया। हास्पिटल के आपरेशन थिएटर में एक कन्या भ्रूण भी मिला है। यह कन्या भ्रूण हत्या का पहला मामला है।

मरीजों को किया गया शिफ्ट

प्रिया हास्पिटल के संचालक, नर्स, दलाल सहित आठ नामजद और अज्ञात के खिलाफ तहरीर दी है। अल्ट्रासाउंड मशीन, भ्रूण के साथ ही गर्भपात में इस्तेमाल होने वाले औजार जब्त किए गए हैं। हास्पिटल से मरीजों को शिफ्ट कर सील किया जा रहा है। पीसीपीएनडीटी प्रभारी डा. वीरेंद्र भारती ने बताया कि पीसीपीएनडीटी नूह हरियाणा की टीम अपने साथ डमी गर्भवती को लेकर प्रिया हास्पिटल पहुंची।

यहां उन्हें नोशाद सिदृदकी निवासी ईदगाह, गांधी नगर उन्नाव मिला, उसने 20 हजार रुपये लिए। प्रिया हास्पिटल में डा. राजीव कुमार ने अल्ट्रासाउंड किया, गर्भस्थ शिशु के बेटा होने की जानकारी दी। पहले से मौजूद टीम डा. राजीव कुमार के चैंबर में पहुंची, नौशाद और डा. राजीव कुमार से टीम ने 20 हजार रुपये जब्त कर लिए।

कन्या भ्रूण मिला

टीम आपरेशन थिएटर में पहुंची, यहां कूड़ेदान से पांच महीने का कन्या भ्रूण मिला, पूछताछ में डा. राजीव कुमार ने बताया कि जैतपुर कला निवासी सुप्रीया पत्नी अवनीश कुमार का अल्ट्रासाउंड करने के बाद हास्पिटल में काम करने वाली नर्स सरिता ने गर्भपात किया था। आपरेशन थिएटर से गर्भपात के औजार भी जब्त किए गए। थाना एत्मादउददौला में तहरीर दी गई है।

प्रिया हास्पिटल के संचालक डा. राजीव कुमार के खिलाफ भ्रूण लिंग परीक्षण की यह तीसरी कार्रवाई है। टीम में डा. अरविंद कुमार, उप सिविल सर्जन पीसीपीएनडीटी नूह, डा. आशीष सिंगला एएसएमओ नागरिक अस्पताल नूह सहित अन्य शामिल रहे।

बाथरूम की नाली में फेेंक दिए रुपये

बाथरूम की नाली में फेंक दिए दस हजार रुपये टीम को देखते ही डा. राजीव कुमार बाथरूम में चले गए, कुछ देर बाद टीम पहुंची। उन्होंने 10 हजार रुपये वाशविशन की नाली का पाइल हटाकर डाल दिए थे, टीम ने नाली से रुपये जब्त कर लिए। छह महीने पहले ही जेल से बाहर आई है सरिता टीम को डा. राजीव कुमार ने बताया कि सरिता ने गर्भपात किया था। सरिता छह महीने पहले जेल से बाहर आई है। एसटीएफ की टीम ने उसे 22 मार्च 2021 को भ्रूण लिंग परीक्षण में जेल भेजा था और घर से अल्ट्रासाउंड मशीन जब्त की थी।

इस तरह हुआ स्टिंग, आनलाइन ट्रांसफर कराए 20 हजार रुपये

डा. तसलीमा निवासी मदीना हास्पिटल, लखपत चौक, जिला नूह हरियाणा और डा. अनुराग सिंह आगरा, मथुरा सहित कई अन्य स्थान पर गर्भवती को भेजकर भ्रूण लिंग परीक्षण कराते हैं। इसके लिए 40 से 50 हजार रुपये लेते हैं। डमी गर्भवती को डा. तसलीमा के पास भेजा गया, उसने डा. अनुराग सिंह का मोबाइल नंबर दिया। उसने 40 हजार में भ्रूण लिंग निरीक्षण की बात तय हुई, 20 हजार रुपये का आनलाइन पेमेंट कराया। इसके बाद डा. अनुराग ने प्रिया हास्पिटल आगरा भेज दिया और नौशाद सिददकी का नंबर दे दिया।

इनके खिलाफ कार्रवाई डा. राजीव कुमार निवासी प्रिया हास्पिटल, नोशाद सिदृदकी निवासी ईदगाह, गांधी नगर उन्नाव, राम किशोर पीआरओ, निवासी बाईपास रोड एत्मादपुर, राजेश निवासी नारायण बिहार सती नगर, सरिता स्टाफ नर्स निवासी टेढ़ी बगिया, डा. तसलीमा निवासी मदीना हास्पिटल, लखपत चौक, जिला नूह हरियाणा, डा. अनुराग सिंह, अवनीश कुमार निवासी कचौरा रोड जैतपुर कलां सहित अन्य के खिलाफ पीसीपीएनडीटी, एमटीपी, एनएमसी एक्ट की धाराओं के साथ साक्ष्य नष्ट करने, अपराधिक साजिश सहित अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कराने को तहरीर दी है। 

Edited By: Abhishek Saxena