आगरा, जेएनएन। मैनपुरी एलाऊ क्षेत्र के गांव बसावनपुर में जमीन के लालच को लेकर दामाद ने सोते समय अपने ससुर की फावड़ा से प्रहार कर हत्या कर दी और फरार हाे गया। मृतक के छोटे दामाद ने आरोपित के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है।

बसावनपुर निवासी हरिप्रसाद की दो बेटियां पूजा और आरती है। पूजा का विवाह करीब 20 साल पहले माेहर सिंह निवासी बिरसिंहपुर थाना कुरावली और आरती का विवाह 15 साल पहले गोविंद निवासी लहरा महुअन कोतवाली मैनपुरी के साथ हुआ था। हरिप्रसाद के काेई बेटा नहीं है। इसलिए पिछले कुछ सालों से दोनों बेटियां ही उनके पास क्रमश: आकर रहती थीं और देखभाल करती थी। तीन साल पहले हरिप्रसाद ने दोनों बेटियों के नाम अपनी जायदाद की वसीयत लिख दी थी। हरिप्रसाद के नाम गांव में दस बीघा जमीन है।

बड़ी पुत्री पूजा का पति मोहर सिंह के पास उसके गांव बिरसिंहपुर में दस देसीमल जमीन थी। जिसे मोहर सिंह ने बेंच दिया था। यह बात हरिप्रसाद को पसंद नहीं आई थी। पिछले कुछ दिनों से मोहर सिंह, ससुर हरिप्रसाद से आधी जमीन अपने नाम बैनामा करने की मांग कर रहा था। इसको लेकर हरिप्रसाद नाराज हो गए थे। जिससे ससुर-दामाद के बीच मनमुटाव रहने लगा था।

15 दिन पहले पूजा और मोहर सिंह देखभाल के लिए हरिप्रसाद के पास आ गए थे। इस दौरान मोहर सिंह ने फिर से बैनामा करने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया तो ससुर-दामाद के बीच विवाद हो गया। हरिप्रसाद कुछ दिनाें से बीमार चल रहे थे, इसलिए सोमवार रात कमरे के अंदर सो रहे थे। उनकी पत्नी कमला देवी, पुत्री पूजा, दामाद मोहर सिंह घर के बाहर नीम के पेड़ के नीचे सो रहे थे। मंगलवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे कमला देवी जागकर कमरे में पहुंची तो बिस्तर पर हरिप्रसाद का खून से सना शव पड़ा था। गर्दन और शरीर पर फावड़े से प्रहार के निशान थे। वे रोने चीखने लगी तो पूजा और गांव के अन्य लोग मौके पर पहुंच गए। दामाद मोहर सिंह पहले ही फरार हो चुका था।

सूचना मिलने पर सीओ सिटी अभय नारायण राय, एसओ एलाऊ सुरेश चंद्र शर्मा मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने घटना स्थल पर पड़ा फावड़ा कब्जे में ले लिया। कुछ देर बाद ही मृतक की छोटी पुत्री आरती और दामाद गोविंद भी मौके पर पहुंच गए। गोविंद ने मोहर सिंह के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है। सीओ सिटी ने बताया कि आरोपित को तलाश किया जा रहा है। जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

Edited By: Tanu Gupta