आगरा, जेएनएन। उत्तराखण्ड में बादल फटने से गंगा नदी में आए अतिरिक्त पानी को नरौरा बांंध से छोड़े जाने पर कासगंज में तहसील क्षेत्र के थाना सुन्नगढी इलाके में गंगा में बाढ़ के हालात बन गए हैं। गंगा मैया ने रौद्र रूप धारण कर लिया है। तटीय क्षेत्र में रहने वाले लोग अंधेरा होते ही डरनेे लगे हैं। खेत लबालब होने से किसानों को भारी नुकसान हो रहा है।  

कासगंज के शहबाजपुर क्षेत्र में गंगजल तट बन्धों को तोड़ के कई स्थानों पर बढ़ गया है। शहबाजपुर- धर्मपुर मुख्य मार्ग तक आमद कर गया है। लगातार जल बढ़ने के कारण खड़ी फसलों में पानी घुस जाने से सैकड़ों बीघा फसल जल मग्‍न हो गई है। किसानों का भारी नुकसान हुआ है। चरागाहों में पानी भर जाने से पालतू पशुओं को चराने में कठिनाई हो रही है। सुन्नगढी, नगला ढाब, वमनपुरा, उलीपुर, किसौल, शहबाज़पुर, उलाई, बसतोली के खेतों में गंगाजल की आमद से ज्वार, बाजरा, तिल, धान, मक्का, गन्ना, सब्ज़ी फसलों को भारी नुकसान हुआ है।

ये किसान हुए प्रभावित

गंगा में आए उफान के कारण सुन्नगढी के कालीचरण, ज्ञानदेवी, धनपाल सिंह, रघुवीर सिंह, लल्लू राम,पूरण,हवलदार सिंह, हरीबाबू आदि किसानों की खड़ी फसलों में पानी घुस गया है।

क्‍या कहते हैं अधिकारी

सुन्नगढी व शहबाजपुर इलाका से जलस्तर वृद्धि की सूचना मिली है। नायब तहसीलदार आसिफ़ अली को राजस्व टीम के साथ भेजा गया है। ज़रूरत पड़ने पर नावें व अन्य सामान सुन्नगढी क्षेत्र में भेजा जाएगा।
शिव कुमार सिंह
उपजिलाधिकारी

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanu Gupta