आगरा, जागरण संवाददाता। बुखार और संदिग्ध डेंगू से पिनाहट के पूर्व प्रधान के 14 साल के बेटे की रविवार को मौत हो गई। पिछले चार दिन में आठ मौत होने से खलबली मची हुई है। वहीं, 16 नए मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। इसमें से आगरा के आठ मरीज हैं।

पिनाहट के चचिहा गांव के पूर्व प्रधान रवि पांडेय के 14 साल के बेटे छोटू को दो दिन से बुखार आ रहा था, फतेहाबाद के निजी चिकित्सक से इलाज करा रहे थे। सुबह तबीयत बिगड़ने पर आगरा ले जाते समय मौत हो गई। बुखार और संदिग्ध डेंगू से पिछले चार दिन में आठ मौत होने से स्वास्थ्य विभाग में खलबली मची हुई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम शिविर लगाने के साथ डेंगू और मलेरिया की जांच के लिए सैंपल ले रही है।

शनिवार को बुखार और संदिग्ध डेंगू से मौत फतेहपुर सीकरी के गांव रसूलपुर निवासी किसान सुरेश चंद की सात साल की बेटी रूबी और दो साल के बेटे सचिन की मौत हो गई। वहीं, कागारौल के रिठौरी के मजरा नगला माहौर में आर्यन (13) की संदिग्ध डेंगू से मौत हो गई। शुक्रवार को यमुना पार के नगला बिहारी निवासी ताराचंद की संदिग्ध डेंगू से नौ साल की बेटी हिमांशी की मौत हो गई थी। गुरुवार टेढ़ी बगिया के महादेवी नगर में भाई बहन की मौत, खंदौली के गांव खड़िया में बुखार पीडि़त बच्ची की मौत हो गई थी।

उधर, एसएन अस्पताल में भर्ती 16 नए मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। इसमें आगरा के आठ मरीज हैं। जबकि फीरोजाबाद के सात और एक मरीज हाथरस का है। सरकारी आंकड़ों में अभी तक आगरा के 69 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है। बुखार आने पर अपने पास के सरकारी अस्पताल और क्वालीफाइड डाक्टर से परामर्श लेने के बाद ही दवा दें, इलाज में देरी न करें। जहां बुखार के ज्यादा मरीज हैं वहां चिकित्सा शिविर लगाया जा रहा है।

डा. अरुण श्रीवास्तव, सीएमओ

Edited By: Jagran