आगरा, जागरण संवाददाता। सिकंदरा के औद्योगिक क्षेत्र में एक केमिकल फैक्ट्री में नकली डीजल और पेट्रोल बनाने की शिकायत मिली थी। पूर्ति विभाग और बांट-माप विभाग ने छापा मारा तो यहां भूमिगत टैंकों में 84 हजार लीटर से अधिक केमिकल मिला है। इसमें डीजल और पेट्रोल जैसी गंध आ रही है। इसके नमूने लेकर जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला को भेज दिए हैं। यह नकली डीजल और पेट्रोल निकला तो फैक्ट्री मालिकों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

पूर्ति निरीक्षक अजय कुमार सिंह ने सिकंदरा थाने में आवश्यक वस्तु अधिनियम की धारा में मुकदमा लिखाया है। इसमें खंदारी के फ्रैंड्स आशियाना निवासी पंकज माहेश्वरी और शाहगंज की विष्णु विहार कॉलोनी निवासी राजेश शर्मा नामजद हैं। 23 सितंबर को पूर्ति विभाग की टीम ने फैक्ट्री में छापा मारा था। मौके पर पंकज माहेश्वरी को बुलाया गया। मगर, वे फैक्ट्री के संबंध में पेपर नहीं दिखा सके थे। उन्होंने बताया था कि फैक्ट्री उन्होंने जून 2020 में राजेश शर्मा को किराए पर दी थी। इसमें वही काम करते थे। केमिकल के बारे में उनसे पूछा गया तो वे नहीं बता सके। उसके संबंध में कोई दस्तावेज भी पेश नहीं किया। दो दिन का समय दिया गया था। इसके बाद भी फैक्ट्री मालिक ने पेपर प्रस्तुत नहीं किए। इसके बाद मुकदमा दर्ज कराया गया। पूर्ति निरीक्षक का कहना है कि फैक्ट्री में मिले केमिकल से डीजल और पेट्रोल जैसी गंध आ रही थी। इसके नमूने को जांच के लिए आगरा विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा गया है। वहां से रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी। शक सही निकला तो पुलिस मुकदमे में और धाराएं बढ़ाएगी। एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि अभी मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस