मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

आगरा, जागरण संवाददाता। मतदान के लिए लोगों में सुबह से ही जोश, जुनून और जज्बा दिखाई दिया। सड़क दुर्घटना में घायल दर्द से कराहती महिला मरीज ने मतदान के लिए उत्साह दिखाया तो डॉक्टर ने उनके हौसले को सलाम किया। एंबुलेंस से घायल महिला मरीज को पोलिंग बूथ तक भेजा और मतदान कराया। वहीं, शहर से लेकर देहात तक बीमारी भी मतदाताओं का जोश कम नहीं कर सकी। कुछ दवाएं लेकर पहुंचे तो कई हॉस्पिटल से छुट्टी कराकर मतदान के लिए पहुंचे। अछनेरा, किरावली निवासी समीना (46) पत्‍‌नी फेल मोहम्मद को सड़क दुर्घटना में घायल होने पर बुधवार को नवदीप हॉस्पिटल, साकेत कॉलोनी में भर्ती कराया। पेट और पैर में सॉफ्ट टिश्यू इंजरी होने पर ऑपरेशन किया, उन्हें फ्रैक्चर भी था। सुबह सर्जन डॉ. सुनील शर्मा और उनकी पत्‍‌नी डॉ. अनुपमा शर्मा वार्ड में राउंड लेने गए। समीना ने वोट डालने की इच्छा जाहिर की, वे कुछ देर तक सोचने लगे। मरीज के परिजनों को बुलाया, उनसे वोटर स्लिप और मतदाता सूची में नाम के बारे में जानकारी ली। परिजन भी मतदान कराने के लिए तैयार हो गए। उन्होंने एंबुलेंस मंगाई, हॉस्पिटल के स्टाफ के साथ खुद भी स्ट्रेचर को पकड़कर उन्हें बाहर तक लेकर आए। इमरजेंसी में दी जाने वाली दवाएं और पैरामेडिकल स्टाफ के साथ उन्हें पोलिंग बूथ, हर प्रसाद इंटर कॉलेज अछनेरा भेजा। वहां स्ट्रेचर से उन्हें पोलिंग बूथ में ले गए और मतदान कराया। इस दौरान वे फोन से संपर्क में रहे, हॉस्पिटल में आने पर दोबारा चेकअप किया गया। सलीमा बोलीं पांच साल बाद मतदान का मौका मिलता है। मतदान करने से दर्द दूर हो गया। मतदाता स्लिप सही न होने पर मरीज नहीं कर सका मतदान फरमान (19) निवासी सलीम कुरैशी, किरावली भी हॉस्पिटल में भर्ती हैं, उन्होंने ने भी मतदान करने के लिए कहा। मगर, उनकी मतदाता स्लिप गड़बड़ थी, इसलिए वोट नहीं डाल सके।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप