आगरा, जागरण संवाददाता। डा. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय की मुख्य परीक्षाओं में कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन किया जाएगा। मुख्य परीक्षा में चार लाख छात्र शामिल होंगे। कोरोना महामारी को देखते हुए केंद्रों पर एक मीटर की दूरी का पालन करने के लिए केंद्रों की संख्या भी बढ़ाई जा सकती है।

विश्वविद्यालय की मुख्य परीक्षाएं सात मई से शुरू हो सकती हैं। इसके लिए विश्वविद्यालय में तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। परीक्षकों को प्रश्नपत्र बनाने के लिए भी निर्देशित कर दिया गया है। परीक्षार्थियों को दस सवालों में से चार के जवाब देने होंगे। इसके साथ ही कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण कोरोना गाइडलाइंस का सख्ती से पालन कराया जाएगा। परीक्षा की अवधि दो घंटे की होगी। हर पाली के बाद केंद्रों पर सेनिटाइजेशन कराया जाएगा। बिना मास्क के किसी भी छात्र को केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। केंद्र पर ड्यूटी देने वाले शिक्षकों, कर्मचारियों के लिए भी मास्क अनिवार्य होगा। केंद्रों पर थर्मल स्क्रीनिंग की भी व्यवस्था की जाएगी।छात्रों के बैठने की व्यवस्था में भी दूरी का खास ध्यान रखा जाएगा। चूंकि छात्रों की संख्या ज्यादा है, इसलिए केंद्रों की संख्या भी इस बार ज्यादा हो सकती है। विश्वविद्यालय से 1044 कॉलेज संबद्ध हैं। इनमें से इस बार लगभग 450 केंद्र बनाए जाने की योजना है। कुलपति प्रो. अशोक मित्तल ने बताया कि शासन द्वारा जारी कोरोना गाइडलाइंस का पूरी गंभीरता से पालन किया जाएगा। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021