आगरा, जागरण संवाददाता। शफ्फाक ताज का संगमरमरी हुस्‍न निखरा जा रहा है। ताज के हुस्‍न पर लगे दाग युद्ध स्‍तर से साफ किये जा रहे हैं। मोहब्‍बत की मीनार का कोना कोना इस तरह से साफ किया जा रहा है कि ताज भी अपनी खूबसूरती में आ रहे निखार हो देखकर गदगद हो उठेगा। जी हां, ये सारी कवायद चल रही है अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आगमन को लेकर। मंगलवार को ताज की सफाई को और तेज कर दिया गया। वाटर कैनल और वीडियो प्‍लेटफार्म के खराब पत्‍थरों को हटाकर नये पत्‍थर लगाए जा रहे हैं। घास कटिंग से लेकर दीवारों पर लगी काइयों को भी हटाया जा रहा है।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) ताजमहल को चकाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहा। मुख्य मकबरे में शहंशाह शाहजहां व मुमताज की कब्रों पर रसायन शाखा ने मडपैक ट्रीटमेंट शुरू कर दिया है। कीड़े द्वारा स्मारक की सतह पर छोड़े गए दाग साफ किए जा रहे हैं। ताज में उद्यान में लगे फव्वारों के दोनों ओर बने पाथवे के रेड सैंड स्टोन की साइंटिफिक क्लीनिंग की जा रही है।

एएसआइ की रसायन शाखा ने शुक्रवार को मुख्य मकबरे में कक्ष में स्थित शहंशाह शाहजहां और मुमताज की कब्रों की प्रतिकृति पर मडपैक ट्रीटमेंट (मुल्तानी मिट्टी से उपचार) से चमकाने की शुरुआत हो चुकी है। मुमताज की कब्र पर मडपैक लगाया जा चुका है, जबकि शाहजहां की आधी कब्र पर ही अभी मडपैक लग सका है। ताज की उत्तरी दीवार (यमुना किनारा की तरफ) यमुना की गंदगी में पनपे कीड़े गोल्डीकाइरोनोमस द्वारा छोड़े गए दाग साफ किए जा रहे हैं। यह कीड़ा गहरे भूरे व हरे रंग के दाग छोड़ता है। रॉयल गेट से लेकर मुख्य मकबरे तक लगे फव्वारों के दोनों ओर बने रेड सैंड स्टोन के पाथवे को भी साइंटिफिक क्लीनिंग कर चमकाया जा रहा है। अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार, अधीक्षण पुरातत्व रसायनज्ञ डॉ. एमके भटनागर, सीआइएसएफ कमांडेंट ब्रजभूषण स्मारक में चल रहे काम का लगातार निरीक्षण कर रहे हैं। एएसआइ की रसायन शाखा की 20-21 फरवरी तक पूरा करने की तैयारी है।

ज्यादा पानी छोड़ छिपाई जाएगी गंदगी

अमेरिकी राष्ट्रपति शहर की खुशनुमा तस्वीर लेकर जाएं इसके सारे प्रयास किए जा रहे हैं। बेहतर स्वागत सत्कार के साथ यमुना की गंदगी नजर न आए इसके इंतजाम किए जा रहे हैं। नदी में ज्यादा पानी छोड़ने को कहा गया है। साथ ही पोकलेन से तलहटी की गंदगी हटाई जा रही है। यह काम अगले दो-तीन दिन में पूरा कर लिया जाएगा।

डोनाल्ड ट्रंप ताज देखेंगे तो जाहिर है यमुना पर भी नजर पड़ेगी। ऐसे में कालिंदी का कलुष उनका मूड़ खराब न करे इसके लिए जीवनी मंडी वाटर वर्क्‍स से लेकर ताजगंज श्मशान घाट तक यमुना में सिल्ट और गंदगी को साफ किया जा रहा है। नदी में इस दौरान ज्यादा पानी छोड़े जाने को पत्र लिखा गया है। लोअर खंड आगरा नहर के अधिशासी अभियंता ने डीएम को लिखे पत्र में 24 फरवरी तक ¨हडन बैराज से 500 क्यूसेक, हरनाल से 10 और कोट स्केप से 300 क्यूसेक पानी छोड़ने की मांग की है।

डीएम प्रभु एन. सिंह ने बताया कि उम्मीद है कि एक-दो दिन में अतिरिक्त पानी छोड़ना शुरू हो जाएगा। पोकलेन मशीन से नदी की तलहटी की सफाई शुरू कर दी गी। यह सफाई दो से तीन दिन तक चलेगी। सोमवार को पांच मीटिक टन कूड़ा उठाया गया। यह कूड़ा कुबेरपुर पहुंचाया गया।

जल संस्थान नहीं ले रहा पानी

जीवनी मंडी वाटर वर्क्‍स से एक माह पूर्व 130 एमएलडी पानी लिया जाता था। गंगाजल की आपूर्ति शुरू होने से अब जल संस्थान यमुना जल नहीं ले रहा है।

 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस