आगरा, जागरण संवाददाता। ब्लैकमेलर छात्रों ने सारी हदों को पार कर दिया। तीन साल पहले पुलिसकर्मी की बेटी ग्यारहवीं में पढऩे वाली बेटी से दोस्ती करके अपने मोबाइल से उसकी अश्लील तस्वीरें खींच लीं। इसके बाद उसे ब्लैकमेल करके उसकी जिंदगी और कैरियर से खिलवाड़ करते रहे। फेसबुक पर फर्जी नाम से प्रोफाइल बनाकर उसे अश्लील फोटो पोस्ट कर दिए। इसके बाद रकम लेकर घर छोडऩे को 48 घंटे का अल्टीमेटम दे दिया। छात्रा के परिजनों द्वारा एसएसपी से शिकायत करने पर उन्होंने मुकदमे के आदेश दिए। पुलिस ने दोनों आरोपितों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया।

कागारौल निवासी कृष्णा के पिता केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) में जवान हैं। तीन वर्ष पूर्व कृष्णा ने अपने स्कूल में ग्यारहवीं में पढऩे वाली पुलिसकर्मी की बेटी से दोस्ती कर ली। अपने मोबाइल से उसकी आपत्तिजनक तस्वीरें खींच लीं। इसके बाद वह अपने असली रंग में आ गया। छात्रा को ब्लैकमेल करने लगा। छात्रा ने उससे बातचीत करना बंद कर दिया तो उसकी तस्वीरें अन्य छात्रों को भेजने की धमकी देने लगा। छात्रा इसके बाद भी दबाव में नहीं आयी तो कृष्णा ने उसी स्कूल में पढऩे वाले अपने दोस्त शुभम को भी अश्लील तस्वीरें दे दीं। इसके बाद दोनों मिलकर छात्रा को ब्लैकमेल कर रहे थे।

छात्रा के स्कूल छोडऩे के बाद भी यह सिलसिला जारी रहा। दोनों उस पर दोस्ती बरकरार रखने के लिए दबाव बनाने लगे। उसे तरह-तरह से परेशान करने लगे। छात्रा उनकी शर्तें मानने को तैयार नहीं हुई तो आरोपितों ने फेसबुक पर फर्जी नाम से प्रोफाइल बनाकर उसकी अश्लील तस्वीरें  परिजनों को पोस्ट कर दीं। इससे छात्रा के परिजनों के होश उड़ गए। मगर, सामाजिक प्रतिष्ठा के चलते वह पुलिस के पास नहीं गए। उधर, कुछ महीने से आरोपितों कृष्णा और शुभम ने छात्रा पर दबाव बनाया कि वह रकम लेकर घर छोड़ दे। उसे अपने पास आने का दबाव बनाने लगे। छात्रा ने परिजनों को इसकी जानकारी दी तो उन्होंने पुलिस से मदद लेने का फैसला किया। परिजनों ने एसएसपी बबलू कुमार से शिकायत की। एसएसपी ने नाई की मंडी थाने को मुकदमा दर्ज करके साइबर सेल को जांच सौंपी। पुलिस ने आरोपितों कृष्णा और शुभम को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया।  

आरोपित के मोबाइल में एक दर्जन लड़कियों की अश्लील फोटो

आरोपित कृष्णा के मोबाइल से करीब एक दर्जन लड़कियों की अश्लील तस्वीरें मिली हैं। आशंका है कि यह सभी तस्वीरें छात्राओं की हैं, जिन्हें वह पुलिसकर्मी की बेटी की तरह ब्लैकमेल कर रहा होगा।

छात्राओं से गलत व्यवहार के चलते स्कूल ने निकाल दिया था  

आरोपित कृष्णा को स्कूल ने उसकी हरकतों के चलते निकाल दिया था। बताते हैं छात्राओं ने स्कूल प्रबंधन को उसकी हरकतों के बारे में शिकायत की थी। उस समय वह ग्यारहवीं का छात्र था। उसे वर्ष 2016 में स्कूल से निकाल दिया गया। मगर, उसने छात्रा का पीछा नहीं छोड़ा। उसे शक था कि स्कूल से निकलवाने के पीछे छात्रा का हाथ है।

मानसिक तनाव के चलते फेल हो गयी छात्रा

छात्रा ब्लैकमेलिंग के चलते ग्यारहवीं में फेल हो गयी थी। वह आगे की पढ़ाई करना नहीं चाहती थी। परिजनों के समझाने पर आगे पढऩे को राजी हुई।

लोकेशन के साथ फोटो डालने का बनाते थे दबाव

ब्लैकमेलर कृष्णा और शुभम के चंगुल में बुरी तरह फंसी छात्रा उनके इशारों पर नाचने को मजबूर थी। वह उससे किचन से लेकर कमरे तक की लोकेशन के साथ फोटो भेजने को मजबूर करते थे।

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप