आगरा, जागरण टीम। ठा. बांकेबिहारी मंदिर में श्रद्धालुओं की बढ़ती भीड़ के बीच गोस्वामियों की गद्दी और चंदन लगाने वालों द्वारा फैलाई जा रही अव्यवस्था पर अंकुश लगाने के लिए अदालत ने मंदिर परिसर में चंदन लगाने वालों पर अंकुश लगाने के साथ गोस्वामियों की गद्दियों को हटाने के पिछले आदेश का कड़ाई से पालन करवाने के निर्देश दिए हैं।

ठा. बांकेबिहारी मंदिर की प्रशासनिक अधिकारी सिविल जज जूनियर डिवीजन अर्चना सिंह ने गुरुवार को मंदिर सेवायत शैलेंद्रनाथ गोस्वामी के प्रार्थनापत्र का संज्ञान लिया है। मंदिर परिसर में कुछ गोस्वामियों द्वारा अवैध रूप से बेंच, स्टूल के साथ तख्ता लगाकर गद्दी बना ली गई हैं। इसके अलावा जो गोस्वामी ठाकुरजी की अंगसेवा में नहीं होते, वे बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को टीका लगाकर दक्षिणा व दान के रूप में उगाही करते हैं, जिससे न केवल मंदिर की छवि धूमिल हो रही है। बल्कि भीड़ के दिनों में व्यवस्थाएं भी ध्वस्त होती हैं। अदालत को दिए प्रार्थनापत्र में सेवायत शैलेंद्रनाथ गोस्वामी ने मंदिर में चंदन लगाने वालों और सेवायतों की गद्दी हटाने के सिविल जज जूनियर डिवीजन के 16 मार्च 2017 के पिछले आदेश का हवाला भी दिया। जिस पर अब तक प्रबंधन द्वारा अमल नहीं करवाया जा सका है। सेवायत के प्रार्थनापत्र का संज्ञान लेते हुए सिविल जज जूनियर डिवीजन ने 16 मार्च 2017 के आदेश को तत्काल प्रभाव से कड़ाई से पालन करवाने के आदेश मंदिर प्रबंधन को दिए हैं। ताकि मंदिर की छवि खराब न हो। आदेश का पालन न करने वालों के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही करने की चेतावनी भी दी है। मामले में मंदिर प्रबंधक मुनीष शर्मा से संपर्क करने की कोशिश की गई, तो उनका मोबाइल बंद मिला। 

Edited By: Tanu Gupta