आगरा, जागरण संवाददाता। उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) 23 जनवरी को कड़े पहरे में होगी। परीक्षार्थी दोनों पाली में निर्धारित समय से 30 मिनट पहले केंद्र पर पहुंचकर अपना स्थान ग्रहण कर लें। परीक्षा शुरू होने से आधा घंटा पहले प्रवेश बंद कर दिया जाएगा। यह निर्देश शुक्रवार को आगरा कालेज में यूपीटीईटी की तैयारी को लेकर हुई बैठक में एडीएम सिटी अंजनी कुमार सिंह ने दिए।

उन्होंने बताया कि पहली पाली की परीक्षा सुबह 10 से दोपहर 12:30 बजे तक 70 केंद्रों पर और दूसरी पाली की परीक्षा दोपहर 2:30 बजे से शाम पांच बजे तक 48 केंद्रों पर होगी, जिसमें 25977 परीक्षार्थी शामिल होंगे। परीक्षार्थी समय से पहुंचें, देरी के लिए वह स्वयं जिम्मेदार होंगे। उन्हें अपने साथ आनलाइन आवेदन में अंकित फोटोयुक्त पहचान पत्र की मूल प्रति, प्रशिक्षण योग्यता का मूल प्रमाण-पत्र या संबंधित प्रशिक्षण संस्था के प्राचार्य या सक्षम अधिकारी द्वारा इंटरनेट से प्राप्त अंकपत्र की प्रमाणित प्रति लानी होगी। प्रवेश-पत्र, फोटो पहचान पत्र की मूल प्रति व अन्य कागजात न होने पर उन्हें केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। फोन और कैमरा रहेगा प्रतिबंधित

परीक्षार्थी केंद्र में कोई भी फोन या गेजेट नहीं ले जा सकेंगे। शिक्षक व पर्यवेक्षक भी केंद्र में फोन और कैमरा नहीं ले जा सकेंगे। सिर्फ केंद्र व्यवस्थापक कीपैड वाला फोन रख सकेंगे। निश्शुल्क कर सकेंगे यात्रा

परीक्षार्थी परिवहन निगम की बसों में 22 से 24 जनवरी तक, जबकि सिटी बसों में वह 22 से 23 जनवरी की रात 12 बजे तक निश्शुल्क यात्रा कर सकेंगे। उन्हें अपने साथ आनलाइन डाउनलोड प्रवेश-पत्र की छह-सात प्रतियां रखनी होंगी और यात्रा के दौरान मांगने पर परिचालक को एक प्रति अपने हस्ताक्षर करके देनी होगी। रहेगी पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था

दोनों पाली में 41 सेक्टर मजिस्ट्रेट और 15 सचल दल केंद्रों का भ्रमण करेंगे। हर केंद्र पर एक स्टेटिक मजिस्ट्रेट और दो-दो पर्यवेक्षक और पर्याप्त पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। केंद्र के 200 मीटर परिधि में फोटो स्टेट आदि की दुकान नहीं खुलेगी। आनलाइन होगी निगरानी

सभी केंद्रों को जिला मुख्यालय में बनाए गए कंट्रोल रूम से आनलाइन जोड़ा गया है, वहीं से केंद्रों पर आनलाइन नजर रखी जाएगी। सोशल मीडिया पर भ्रामक सूचना फैलाने वालों पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी। अनुपस्थित केंद्र व्यवस्थापकों को नोटिस

बैठक में कई केंद्र व्यवस्थापक नहीं पहुंचें। इससे एडीएम सिटी नाराज दिखे। उन्होंने जिला विद्यालय निरीक्षक मनोज कुमार को अनुपस्थित केंद्र व्यवस्थापकों को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगने के निर्देश दिए हैं। नहीं कटेगी ड्यूटी

बैठक के बाद कई शिक्षक और केंद्र व्यवस्थापक खराब तबीयत व अन्य कारणों का हवाला देकर परीक्षा ड्यूटी कटवाने की अपील करने लगे। जिला विद्यालय निरीक्षक ने तुरंत ही ऐसे आवेदन किनारे रख दिए। उनका कहना था कि परीक्षा ड्यूटी किसी की नहीं कटेगी। समस्या है, तो उच्चाधिकारियों की अनुमति लेकर आएं।

Edited By: Jagran