आगरा, जागरण संवाददाता। बंगाल की खाड़ी में आए चक्रवात का असर मैदानी इलाकों में भी देखने को मिल रहा है। गुरुवार सुबह से आगरा में तूफानी हवा चल रही है। इसके आगे बड़े पेड़ों के धराशायी होने का डर भी है। पूर्वी उत्‍तर प्रदेश में सुबह से हो रही है। मौसम विभाग का कहना है कि दोपहर तक यहां भी गरज के साथ बौछारें आ सकती हैं। हवा के चलते न्‍यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज हुई है।

गुरुवार सुबह से ही आगरा में बादल छाने के साथ तेज हवा चल रही है। हवा में ठंडक से गर्मी और उमस से राहत मिल गई। सुबह 10 बजे तक धूप नहीं निकली है लेकिन हवा की गति लगातार तेज बनी हुई है। सुबह का तापमान 24.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इससे पहले बुधवार को अधिकतम तापमान में एक डिग्री की गिरावट दर्ज हुई थी और यह 33.2 डिग्री रहा था। गुरुवार को अधिकतम तापमान के 33 डिग्री के आसपास ही रहने के आसार जताए गए हैं।

आसमान में बादलों की आवाजाही

बुधवार शाम से ही मौसम का मिजाज बदला हुआ है, आसमान में बादलों की आवाजाही हो रही है। इससे बूंदाबांदी के बाद ताजनगरी में बारिश नहीं हुई है। घने बादल छा रहे हैं लेकिन 10 से 15 मिनट की बारिश के बाद बादल हवा के साथ आगे बढ रहे हैं। इससे बारिश कम हो रही है।

22 सितंबर तक तेज हवा चलने के साथ बारिश की संभावना

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि शुक्रवार को बारिश हो सकती है, शनिवार और रविवार को भी बारिश की संभावना है। इसके बाद मौसम बदल जाएगा और तेज हवा चलेगी। मौसम विभाग ने 22 सितंबर तक तेज हवा चलने के साथ बारिश की संभावना व्यक्त की है।

पानी का सेवन अधिक करें, पेट हो रहा खराब

गर्मी और उमस से पसीना अधिक निकल रहा है। इससे शरीर में इलेक्ट्रोलाइट की कमी हो रही है। इलेक्ट्रोलाइट की कमी होने से पेट दर्द, डायरिया और पेट संबंधी समस्या बढ गई हैं। एसएन मेडिकल कालेज के डा प्रभात अग्रवाल ने बताया कि इस मौसम में पानी का सेवन अधिक करें, नीबू शिकंजी ले सकते हैं। बाजार के खाद्य पदार्थ का सेवन करने से बचें।

Edited By: Prateek Gupta