आगरा, जागरण संवाददाता। मानसून के सीजन में जैसी पहले एक साथ लगकर बारिश हुआ करती थी, वैसी इस बार आगरा में देखने को नहीं मिली। पूरा सीजन निकलने को आ गया लेकिन जोरदार अंदाज में बरसात एक भी दिन नहीं हुई। दिल्‍ली में मूसलाधार बारिश को देखते हुए आगरा लगभग सूखा ही रहा। अभी यहां मानसून में होने वाली औसत बरसात का आंकड़ा भी पूरा नहीं हो पाया है। मौसम विभाग ने सोमवार को भी बारिश उम्‍मीद जताई है। उम्‍मीद तो पिछले तीन दिन से जताई जा रही है लेकिन बूंद यहां एक भी नहीं गिरी।

आगरा में सोमवार सुबह सात बजे से ही धूप निकल आई है और हल्‍की गर्मी और उमस बढ गई है। सुबह का तापमान सामान्य 23 डिग्री सेल्सियस से तीन डिग्री सेल्सियस अधिक 26.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि शाम को बूंदाबांदी हो सकती है। आगरा में मानसून सीजन के दौरान होने वाली कुल औसत वर्षा से अभी लगभग 34 फीसद कम बारिश हुई है। इससे पहले बारिश और ठंडी हवा की वजह से रविवार को अधिकतम तापमान एक डिग्री बढ़ोत्‍तरी के साथ 34.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। आज भी अधिकतम तापमान 34 डिग्री के आसपास रहेगा।

16 सितंबर तक बारिश की संभावना

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि सोमवार को भी बारिश की संभावना है, इस तरह 16 सितंबर तक बारिश की संभावना है। इससे तापमान में गिरावट आएगी। 17 सितंबर से मौसम का मिजाज फिर बदलेगा।

पानी का सेवन अधिक करें, पेट हो रहा खराब

गर्मी और उमस से पसीना अधिक निकल रहा है। इससे शरीर में इलेक्ट्रोलाइट की कमी हो रही है। इलेक्ट्रोलाइट की कमी होने से पेट दर्द, डायरिया और पेट संबंधी समस्या बढ गई हैं। एसएन मेडिकल कालेज के डा प्रभात अग्रवाल ने बताया कि इस मौसम में पानी का सेवन अधिक करें, नीबू शिकंजी ले सकते हैं। बाजार के खाद्य पदार्थ का सेवन करने से बचें।

मरीजों की बढ़ी संख्या

मौसम में हो रहा परिवर्तन लोगों को बीमार कर रहा है। ओपीडी और इमरजेंसी में ब्लड प्रैशर और वायरल के मरीजों की संख्या में 30 फीसद तक इजाफा हुआ है। जिला अस्पताल की ओपीडी में सबसे ज्यादा मरीज बुखार, पेट दर्द, डायरिया और ब्लड प्रेशर से संबंधित पहुंच रहे हैं। यही हाल एसएन मेडिकल कालेज की ओपीडी का भी है।

Edited By: Prateek Gupta