आगरा, जागरण संवाददाता। ताजनगरी में सुबह और रात में गिरावट दर्ज होना शुरू हो गया है, हालांकि दोपहर में धूप तीखी होने से गर्मी का अहसास हो रहा है। शुक्रवार को सुबह भी मौसम में ठंडक रही, लेकिन आठ बजे के बाद धूप तेज होती गई। उसके बाद धूप परेशान कर रही है। हालांकि न्‍यूनतम तापमान सामान्‍य से अभी तीन डिग्री ज्‍यादा है, लेकिन गुरुवार के मुकाबले यह डेढ़ डिग्री सेल्सियस कम है। ये इस बात के संकेत हैं कि इस बार ठंड का आगाज जल्‍दी होगा।

आगरा में शुक्रवार को सुबह आठ बजे के बाद धूप तेज होने लगी, 10 बजे के बाद तेज धूप से गर्मी और उमस बढ़ गई है। पंखे में राहत नहीं मिल रही है। न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री सेल्सियस अधिक 23.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि दोपहर में धूप तेज होने से तापमान 36 से 37 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है।

13 अक्टूबर तक गर्मी से राहत नहीं

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि गुरुवार को भी तेज धूप निकलेगी, इससे गर्मी और उमस बढ़ जाएगी। 13 अक्टूबर तक गर्मी से राहत नहीं मिलेगी और अधिकतम तापमान 36 से 37 डिग्री सेल्सियस के बीच रह सकता है।

वायरल संक्रमण का खतरा

मौसम लगातार बदल रहा है। इस मौसम में वायरल संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ रहा है। सरोजनी नायडू मेडिकल कालेज के बाल रोग विशेषज्ञ डा . नीरज यादव ने बताया कि बच्चों को ठंडे पेय पदार्थ न दें, आइसक्रीम न खिलाएं, घर का बना हुआ सादा भोजन दें। बुखार आने पर डाक्टर से परामर्श लेने के बाद ही दवा दें।

पानी का सेवन अधिक करें, पेट हो रहा खराब

गर्मी और उमस से पसीना अधिक निकल रहा है। इससे शरीर में इलेक्ट्रोलाइट की कमी हो रही है। इलेक्ट्रोलाइट की कमी होने से पेट दर्द, डायरिया और पेट संबंधी समस्या बढ गई हैं। एसएन मेडिकल कालेज के डा प्रभात अग्रवाल ने बताया कि इस मौसम में पानी का सेवन अधिक करें, नीबू शिकंजी ले सकते हैं। बाजार के खाद्य पदार्थ का सेवन करने से बचें।

मरीजों की बढ़ी संख्या

मौसम में हो रहा परिवर्तन लोगों को बीमार कर रहा है। ओपीडी और इमरजेंसी में ब्लड प्रैशर और वायरल के मरीजों की संख्या में 30 फीसद तक इजाफा हुआ है। जिला अस्पताल की ओपीडी में सबसे ज्यादा मरीज बुखार, पेट दर्द, डायरिया और ब्लड प्रेशर से संबंधित पहुंच रहे हैं। यही हाल एसएन मेडिकल कालेज की ओपीडी का भी है।

Edited By: Prateek Gupta