आगरा, जागरण संवाददाता। सुहागिनों के सोलह श्रृंगार में पायल भी शामिल हैं। ऐसे में करवाचाैथ पर देशभर में सुहागिनों के पैर में ताजनगरी की पायल छनकेगी। करवाचौथ से पहले देश भर की मंडी में ताजनगरी की पायल की मांग है। एक माह पहले आर्डर आना शुरू हो गए थे।

लाकडाउन मे मंदा पड़ा आगरा का पायल कारोबार करवाचाैथ की मांग के बाद रफ्तार पकड़ रहा है। पूरे देश में यहां की पायल प्रसिद्ध हैं। करवाचौथ के नजदीक आते ही पायलों की मांग बढ़ गई है। इस बार बाजार में हल्की बाल पाइप वाली पायलों की ज्यादा मांग है। यहां से देश के हर राज्य में पायलों की सप्लाई है। सबसे ज्यादा मांग पूरे उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, बिहार, महाराष्ट, गुजरात और कर्नाटक में है। एक माह पहले से पायलों के आर्डर आने शुरू हो गए थे। अब सप्लाई शुरू हो गई है। करवाचौथ पर पायलों की मांग से बाजार में तेजी है। शहर में पायल बनाने के छोटे-बडे़ करीब डेढ़ हजार कारखाने हैं। इस समय सभी कारखानों में पायल बनाने का काम चल रहा है। करवाचौथ पर पिछले साल की तुलना में 10 फीसद मांग ज्यादा है।

चांदी के करवे भी बिक रहे

करवाचौथ के लिए सराफा बाजार में चांदी के बर्तन की भी अच्छी बिक्री है। बाजार में चांदी के करवे भी आए हैं। इसके अलावा गिलास सेट, प्लेट, टी सेट भी उपलब्ध हैं। चांदी के थोक कारोबारी रिंकू बंसल ने बताया कि पायल के साथ चांदी के करवे और बर्तन की नई रेंज आई है। बाजार में इनकी अच्छी डिमांड है।

पिछले साल से महंगी चांदी

पिछले साल करवाचाैथ पर चांदी की कीमत 49 हजार रुपये थी, जबकि अब एक किलो चांदी 63 हजार रुपये की है। चांदी के दाम बढ़ने से भारी पायल की बिक्री थोड़ी कम है।

हल्के आइटम ही पसंद किए जा रहे हैं। वर्जनआगरा की पायल पूरे देश में सप्लाई होती है। करवाचौथ के लिए अच्छे आर्डर मिले हैं। बाजार में तेजी है। करीब 75 करोड़ का कारोबार होने की उम्मीद है।

नितेश अग्रवाल, अध्यक्ष आगरा सराफा एसोसिएशन

20 दिन से बाजार में तेजी आई है। करवाचौथ के लिए चांदी के हल्के आइटम की मांग है। पायल-बिछुए ज्यादा बिक रहे हैं। करवाचाैथ पर अच्छा कारोबार होने की उम्मीद है।

आनंद अग्रवाल, पूर्व अध्यक्ष सराफा कमेटी

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस