जागरण संवाददाता, आगरा: दुनिया में मोहब्बत की निशानी के नाम से जाने वाले ताजमहल का दीदार बंदरों के उत्पात की वजह से पर्यटकों के लिए मुसीबत बन गया है। मंगलवार सुबह फ्रेंच पर्यटक दल पर बंदरों ने हमला बोल दिया। दो महिला पर्यटकों को उन्होंने काट लिया। स्मारक में प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया।

मंगलवार सुबह 8:30 बजे के करीब फ्रेंच पर्यटकों का दल ताज भ्रमण को पहुंचा था। सेंट्रल टैंक के पास बंदरों का झुंड आ गया। पर्यटकों ने उन्हें भगाने की कोशिश की, लेकिन बंदरों ने उन पर हमला बोल दिया। पर्यटकों में अफरातफरी मच गई। इसी बीच बंदरों ने महिला पर्यटक टीकू (40) और फॉस्सर्ड (32) को पीछे से पैर में काट लिया। इससे वहां मौजूद अन्य पर्यटक दहशत में आ गए। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) के कर्मचारियों और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ) के जवानों ने बंदरों को किसी तरह भगाया। स्मारक में ही दोनों घायल पर्यटकों को प्राथमिक उपचार दिया गया। टीकू को चलने में परेशानी होने की वजह से व्हील चेयर पर बैठाकर स्मारक से लाया गया। इसके बाद उपचार के लिए उन्हें निजी अस्पताल भेजा गया। - पहले भी बंदर कर चुके हैं हमला:

इन दिनों पर्यटन सीजन नहीं है, इसके बावजूद प्रतिदिन 12 से 15 हजार देसी-विदेशी सैलानी ताज के दीदार को आते हैं। बंदरों का उत्पात उनके लिए परेशानी का सबब बन चुका है। सुबह और शाम के समय बंदरों के झुंड को उत्पात मचाते हुए देखा जा सकता है। पूर्व में भी वह कई पर्यटकों को काट चुके हैं, लेकिन बंदरों को स्मारक से भगाने के लिए जिम्मेदार विभाग कोई कदम नहीं उठाते।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस