जागरण संवाददाता, आगरा: नगर निगम परिसर में लगी डॉ. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा को नहीं हटाया जाएगा। डीएम गौरव दयाल ने संस्कृति निदेशालय के निदेशक को भेजी अपनी रिपोर्ट में कानून व्यवस्था बिगड़ने का हवाला देते हुए प्रतिमा नहीं हटाने की संस्तुति की है। विधायक जगन प्रसाद गर्ग के पत्र पर संस्कृति निदेशालय द्वारा जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी गई थी।

भाजपा विधायक जगन प्रसाद गर्ग ने नगर निगम परिसर में लगी डॉ. भीमराव आंबेडकर की दो प्रतिमाओं में से पुरानी प्रतिमा को हटवाकर उसके स्थान पर पं. दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा लगाने के लिए पत्र लिखा था। इसका विरोध शुरू हो गया था। संस्कृति विभाग द्वारा 24 अप्रैल को जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी गई थी। प्रशासन ने इस पर नगर निगम से रिपोर्ट मांगी। नगर आयुक्त अरुण प्रकाश ने प्रशासन को अवगत कराया कि नगर निगम परिसर में डॉ. आंबेडकर की दो प्रतिमाएं लगी हुई हैं और दोनों ही ठीक स्थिति में हैं। एक प्रतिमा हटाकर उसके स्थान पर पं. दीनदयाल उपाध्याय की आदमकद प्रतिमा लगाने का कोई प्रस्ताव नगर निगम सदन/बोर्ड में नहीं आया है। यदि भविष्य में कोई प्रस्ताव आता है तो नगर निगम सदन/बोर्ड में अग्रिम कार्यवाही को प्रेषित किया जाएगा।

नगर निगम की रिपोर्ट के आधार पर डीएम गौरव दयाल ने संस्कृति निदेशालय को रविवार को भेजी रिपोर्ट में डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा नहीं हटाए जाने की संस्तुति की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि नगर निगम पार्क 50 गुणा 50 मीटर लंबा-चौड़ा है। इसके दक्षिण व पश्चिम दिशा में डॉ. आंबेडकर की प्रतिमाएं लगी हुई हैं। उत्तर और पूर्व की दिशा खाली हैं। पूर्व में स्थापित प्रतिमाओं को हटाए जाने पर प्रतिमा स्थापना में सहयोग करने वाले 81 पार्षदों और डॉ. आंबेडकर के प्रति आस्था रखने वाले समुदायों द्वारा विरोध प्रकट किया जा सकता है।

डीएम गौरव दयाल ने बताया कि नगर निगम की रिपोर्ट और महानगर की कानून एवं शांति व्यवस्था को ध्यान में रखकर डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा नहीं हटाने की संस्तुति की गई है। यदि नगर निगम बोर्ड पूर्व में लगी प्रतिमाओं को हटाए बिना पं. दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा लगाने का प्रस्ताव पारित करता है तो जिला प्रशासन को कोई आपत्ति नहीं होगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप