आगरा [यशपाल चौहान]। भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) की बृज क्षेत्र मंत्री दिव्या चौहान ने अपनी फार्च्यूनर गाड़ी का सौदा करके दबंगई दिखाई। 27.25 लाख रुपये लेने के बाद गाड़ी क्रेता और उसके मित्रों की पिटाई करवाई। पिस्टल तानी। मामले में भाजपा नेत्री और उसके भाई को नामजद किया गया है।

बमरौली कटारा निवासी रेहान वाहनों की खरीद-फरोख्त करते हैं। खंदौली थाने में दर्ज कराई प्राथमिकी में रेहान ने कहा है कि आनलाइन साइट पर दिव्या चौहान ने फार्च्यूनर गाड़ी का विज्ञापन दिया था। शनिवार को न्यू आगरा क्षेत्र में स्थित एक फार्म हाउस में दिव्या चौहान और उनके भाई उपदेश सिंह ने गाड़ी का सौदा 30.25 लाख रुपये में किया था। 

दिव्या ने कही थी घर छोड़ने की बात

इसके बाद दिव्या चौहान को 27.25 लाख रुपये और दो लाख रुपये के चेक दे दिए। एक लाख रुपये गाड़ी ट्रांसफर होने पर आरटीओ आफिस में देना तय हुआ था। उपदेश सिंह ने गाड़ी बेचने के कागजातों पर हस्ताक्षर भी किए थे। लेनदेन की वीडियो भी बनाई गई। इसके बाद दिव्या चौहान ने फार्च्यूनर गाड़ी से उन्हें उनके घर छोड़ने को कहा। 

घर पहुंचने पर आधा दर्जन लोगों ने बोला हमला

रेहान का आरोप है कि दिव्या और उनका भाई उपदेश फार्च्यूनर गाड़ी लेकर खंदौली क्षेत्र में नाऊ की सराय के पास स्थित अपने आवास वन सिटी कालोनी पहुंचे। गाड़ी में रेहान, उसके मित्र नदीम और अजीम भी थे। कालोनी पहुंचने पर दिव्या चौहान गाड़ी की चाबी अंदर चली गईं।

चाबी मांगने रेहान व उसके दोस्त अंदर गए तो वहां मौजूद आधा दर्जन लोगों ने उन पर हमला बोल दिया। मारपीट कर उन्हें घायल कर दिया गया। उन पर पिस्टल भी तानी। वहां से भागकर उन्होंने जान बचाई। 

विभिन्न धाराओं में दर्ज किया गया मामला: थानाध्यक्ष

थानाध्यक्ष खंदौली आनंद वीर सिंह ने बताया कि तहरीर के अनुसार, दिव्या चौहान, उपदेश व अन्य के विरुद्ध धोखाधड़ी, अमानत में खयानत, मारपीट, गाली गलौज व अन्य धाराओं में प्राथमिकी लिखी गई है। गाड़ी की डील और रुपये के लेनदेन के वीडियो भी कब्जे में लिए गए हैं। नियमानुसार आगे कार्रवाई की जाएगी।

दिव्या का फोन हुआ स्विच आफ

उधर, भाजयुमो के बृज क्षेत्र अध्यक्ष मनीष गौतम का कहना है कि मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। दिव्या चौहान मोर्चा की बृज क्षेत्र मंत्री हैं। आरोपित दिव्या चौहान का मोबाइल फोन स्विच आफ है, इसलिए उनसे संपर्क नहीं हो पाया।

पहले भी विवादों में आ चुका है नाम 

भाजुयमो नेत्री का नाम पहले भी विवादों में सामने आया था। एत्मादपुर और खंदौली में हुए विवादों में नाम सामने आया, लेकिन उनमें कार्रवाई नहीं हुई थी। इस मामले में पुलिस के पास मजबूत साक्ष्य हैं। इसलिए भाजपा नेत्री की मुश्किल बढ़ सकती हैं।

Edited By: Shivam Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट