आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा के मास्टर प्लान में फिर से बदलाव होने जा रहा है। इसे चंडीगढ़ के पैटर्न पर बनाया जाएगा जबकि प्लान से उप्र राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीएसआइडीए) क्षेत्र हटाया जाएगा। संशोधित प्लान सप्ताह भर में एडीए अफसरों को शासन को भेजना होगा। सचिव, आवास एवं शहरी नियोजन अजय चौहान ने प्लान में संशोधन के आदेश दिए।

एडीए ने मास्टर प्लान तैयार किया है। इसमें आगरा महायोजना-2021 के कुछ हिस्से को लिया गया है। खासकर बाजार स्ट्रीट, बस स्टैंड, आगरा मेट्रो के डिपो, नए पार्क और शहर का विकास शामिल है। सोमवार दोपहर सचिव, आवास एवं शहरी नियोजन अजय चौहान के समक्ष लखनऊ में मास्टर प्लान का प्रेजेंटेशन किया गया। नियोजन विभाग के एक अधिकारी ने मास्टर प्लान को लेकर सवाल पूछने शुरू कर दिए। अधिकारी ने कहा कि क्या मास्टर प्लान इस तरीके से बनाया जाता है। इसे जिग जैक में बनाया जाना कहीं से भी उचित नहीं है। इससे कई तरीके की दिक्कतें आएंगी। खासकर शहर का तेजी से विकास हो रहा है। ऐसे में इसे चंडीगढ़ के ग्रिड आयरन पैटर्न पर बनाया जाए। इस पैटर्न में आधारभूत सुविधाएं एक समान होती हैं। सभी रोड और उनके आसपास लगने वाले बाजार सही दिशा में तैयार किए जाते हैं। इससे जाम की कोई समस्या नहीं रहती है। सचिव ने कहा कि यूपीएसआइडीए क्षेत्र मास्टर प्लान का हिस्सा नहीं है। ऐसे में इसे प्लान से हटाया जाए और संशोधित प्लान भेजा जाए। एडीए उपाध्यक्ष डा. राजेंद्र पैंसिया, मुख्य नगर नियोजक आरके सिंह सहित अन्य अफसर मौजूद रहे।

 

Edited By: Tanu Gupta