जागरण संवाददाता, आगरा: उत्तरप्रदेश के आगरा जिले में कुछ दिन पहले बैग छीनकर भागे बदमाशों के पकड़ने की खबर सामने आयी है। जिले के सदर तहसील से 18 जनवरी को स्टांप विक्रेता मुश्ताक का दस लाख रुपये से भरा बैग लेकर भागने वाले दो भाइयों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इनसे 84, 500 रुपये बरामद किए हैं। योजना में शामिल इसके चाचा की तलाश की जा रही है।

योजना में आरोपितों का चाचा भी शामिल था

पुलिस उपायुक्त विकास कुमार ने बताया कि पकड़े गए आरोपित विशाल गोस्वामी उर्फ ज्वाला और शिवम मूलरूप से गांव नगरी चौराहा थाना कोतवाली, मैनपुरी के हैं। विशाल वर्तमान में मुहल्ला झील की पुलिया जलेसर रोड, फिरोजाबाद में जबकि शिवम नगला परसौती देवरी रोड, आगरा में रहता है। दोनों ने बताया कि योजना में उनका चाचा धर्मेंद्र गोस्वामी व एक अन्य शामिल थे।

इस तरह दिया था वारदात को अंजाम

योजना के तहत धर्मेंद्र और शिवम ने आटो बुक कर तहसील चौराहे पर पहुंच गए। चाचा के परिचित के साथ वह दोनों तहसील परिसर में आए। यहां स्टांप विक्रेता को बैग में रुपये रखते देख लिया था। मौका मिलते ही बैग लेकर दौड़ लगा दी। बाहर आटो में बैठ कर ईदगाह कटघर गए। वहां से अलग-अलग चले गए। बैग धर्मेद्र को दे दिया था। शाम को शिवम के कमरे पर रकम का बंटवारा किया।

पुलिस उपायुक्त ने बताया कि आरोपितों ने बताया कि बैग में छह लाख रुपये निकले थे। उन्हें हिस्से में डेढ़-डेढ़ लाख रुपये आए थे। कुछ रकम वह जुए में हार गए, कुछ खर्च कर दी। मामले में वांछित धर्मेंद्र समेत दो लोगों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

Edited By: Nirmal Pareek